स्वस्थ रहने के लिए खानपान। Swasth rahne ke liye khanpan.


Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

संतुलित आहार, जीवन का आधार अर्थात स्वच्छ भोजन करें और स्वस्थ रहें। Balanced diet, the basis of life i.e. eat clean food and be healthy.

जीवन में स्वस्थ रहने के लिए भोजन ज़रूरी हैं। संतुलित आहार को जीवन का आधार माना गया हैं। खाना सही समय पर खाएँ और ना ज़्यादा ना कम। भोजन में प्रोटीन, विटामिन, फाइबर युक्त भोजन लें, जिससे शरीर को अधिक पोषक तत्व मिल सकें, तो संतुलित आहार का लाभ मिलना शुरू हो जाता हैं।

मनुष्य भोजन के बिना जीवित नहीं रह सकता। संसार में कोई भी प्राणी भोजन के बिना जीवित नहीं रह सकता। मनुष्य अधिक बुद्धिमान प्राणी हैं और उनमें जीवन के साथ आगे बढ़ने की समझ हैं।

इन्सान कोई भी पदार्थ को पकाने के बाद खाने के अहमियत समझ गया इसलिए वह सभी प्रकार के पकाने योग्य भोजन को पकने के बाद खाता हैं इससे उनके दो प्रकार के फायदे मिलते हैं।

i) भोजन गरम होने से चयपचाय में आसान हो जाता हैं।

ii) जब भोजन पकाया जाता हैं, तो यह स्वादिष्ट लगता हैं और पौष्टिक भोजन बन जाता हैं। अवांछित भोजन से दूर रहें और ख़ुद को स्वस्थ रखें। Swasth rahne ke liye khanpan.

1.फिट रहने के लिए डाइट चार्ट। fit rahne ke liye diet chart.

फिट रहने के लिए डाइट चार्ट क्यो? आवश्यक यह बताते हैं। क्योकि हमारे उम्र बचपन के बाद युवा फिर बुज़ुर्ग हो जाता हैं उम्र एक काऊंटनिग हैं।

जो समय के साथ काऊंटनिग होते रहता हैं और एक दिन बचपन से बुज़ुर्ग अवस्था तक चले जाता हैं परंतु स्वस्थ रहने के लिए डाइट चार्ट नहीं बनाया जाता जिसे स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा नहीं माना जा सकता हैं कम वज़न वाले सभी लोग वज़न बढ़ाने के लिए डाइट चार्ट बनाते हैं और अपना वज़न बढ़ाने की कोशिश करते हैं।

बच्चों की उम्र के हिसाब से डाइट चार्ट बनाकर उसे सप्लीमेंट्स दिए जाते हैं। मैं एक उदाहरण के तौर पर फिट रहने के लिए डाइट चार्ट बना सकता हूँ। या फिर फिट रहने के लिए आप ख़ुद डाइट चार्ट बना सकते हैं।

अगर आपको अपने खाने में 2 रोटी, एक कटोरी चावल, दाल, सब्जियाँ, सलाद ले सकते हैं यदि पसंद हैं तो आप दही का सेवन कर सकते हैं। नहीं तो दही की जगह हल्दी वाला दूध ले सकते हैं।

शाम के समय ग्रीन टी, जूस, फल या मेवे ले सकते हैं। रात का खाना दिन से हल्का होना चाहिए। 2 रोटी, सब्जी, सलाद और एक कटोरी दाल लेनी चाहिए। इस तरह आप उम्र के हिसाब से डाइट चार्ट प्लान में बदलाव कर सकते हैं। यह एक उदाहरण हैं।

यदि आप फिट रहने के लिए मास्टर डाइट चार्ट बनाते हैं या फिट रहने के लिए डाइट चार्ट बनाने का बेहतर अनुभव है तो कृपया अपने ज्ञान को बोतल्दा केयर के पाठकों के साथ साझा करें और बोतल्दा केयर के पाठकों को अपना डाइट चार्ट बनाने में मदद करें। नीचे कमेंट बॉक्स हैं, उस पर जाएँ और उसे लिखकर प्रकाशित करें।

इन्हें भी पढ़े:- इम्यूनिटी बढ़ाने के उपाय इन हिंदी।

2.स्वस्थ रहने के लिए दिनचर्या। Routine to stay healthy.

सुबह-शाम की हवा और लाखों रुपये की दवा यह कहावत हैं। इसलिए सुबह उठकर कुछ देर टहलें जो खुद को स्वस्थ बनाने का सबसे अच्छा तरीका हैं। अगर योग का अभ्यास किया जाए तो यह सुबह की दिनचर्या में सबसे अच्छी बात हैं।

परंतु जीवन के आपा धापी में नहीं हो पता हैं तो शाम के समय बाहर टहल सकते हैं योग व्याम कर सकते हैं। नीचे कलाम में सुबह के नास्ते से शरीर को लाभ बताया हैं जरूर पढ़े।

खूब पानी पिये यह शरीर को फ़िल्टर का काम करता हैं टाक्सिन बाहर निकाल देता हैं। पानी के पीने के लाभ के बारे में नीचे कलाम में लिखा हैं जरूर पढ़े।

अगर आप शराब, धूम्रपान और नशीले पदार्थों का सेवन करते हैं तो इसे अपनी दिनचर्या से बाहर कर दें। यह मानसिक स्वास्थ्य को प्रभावित करता हैं। विशेषज्ञों का मानना हैं कि जो आपके शरीर के लिए अच्छा हैं वह आपके दिमाग के लिए अच्छा हैं। स्वस्थ रहने के 5 उपाय वाले आर्टिकल मेंसुबह जल्दी उठने के राज बताया गया हैं जरूर पढ़ें।

3.स्वस्थ रहने के 4 उपाय। Swasth rahne ke 4 upaay.

Swasth rahane ke gharelu upaay.
Swasth rahne ke 4 upaay.

i) अच्छे से पानी पिये। Drink water well.

कम पानी पीने से शरीर को गंभीर नुकसान हो सकता है। जैसे पाचन में परेशानी होना। पेशाब करते समय जलन महसूस होना। शरीर में कब्ज की समस्या। एसिडिटी के कारण अपच के कारण पेट खराब होना।

पेट दर्द पानी की कमी के कारण भी हो सकता है। शरीर में पर्याप्त पानी नहीं मिलने से थकान महसूस होना स्वाभाविक है। पानी की कमी से शरीर में बीमारियों का घर बन जाता है।

काम की वजह से भी हम अक्सर पर्याप्त पानी पीना भूल जाते हैं और सही समय पर पानी नहीं पी पाते हैं। जो बीमारी के कारण बनता है और कम पानी पीने से होने वाले नुकसान भी शरीर के लिए काफी हानिकारक होते हैं।

पानी हमारे शरीर के अस्तित्व के लिए हवा जितना ही महत्वपूर्ण है, पानी पीना क्यों जरूरी है, आपने कभी सुना या महसूस किया होगा कि कोई व्यक्ति कुछ दिनों तक बिना भोजन के रह सकता है, लेकिन पानी के बिना भी जीवित रहना मुश्किल है।

क्षण पर। हुह। एक दिन में कितना पानी पीना चाहिए? । यह सवाल मन में उठता है। विशेषज्ञों का मानना है कि एक दिन में दो से तीन लीटर पानी पीना चाहिए। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि रोजाना दो से ढाई लीटर पानी पीना चाहिए। लगभग सभी विशेषज्ञों का एक ही प्रकार का मत है। 24 घंटे में कितना पानी पीना है एक दिन में कम से कम 15 से 18 गिलास पानी का सेवन करना जरूरी है।

कम पानी पीने से शरीर में पानी की मात्रा कम हो जाती है, जिससे डिहाइड्रेशन हो जाता है। पानी की कमी के कारण संक्रमण के टॉक्सिन शरीर से बाहर नहीं निकल पाते हैं और शरीर में पेशाब की समस्या होने लगती है। इसलिए सही मात्रा में पानी पीने से पसीने और पेशाब के जरिए विषाक्त पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और शरीर को आराम मिलने लगता है।

ii) स्नान ज़रूर करें। Be sure to take a bath.

सुबह उठकर पानी से नहाना दिन की सबसे अच्छी और असरदार शुरुआत मानी जाती हैं। नहाने का मतलब हैं अपनी त्वचा से गंदगी को धोना। यह भी माना जाता हैं कि स्नान करने के बाद गहरे स्तर पर एक निश्चित शुद्धि प्राप्त होती हैं।

ऐसा भी माना जाता हैं कि नहाने से आपकी मांसपेशियाँ अच्छी बनती हैं। हर कोई चाहता हैं कि नहाने से उसके शरीर को एक अलग ऊर्जा मिले जिससे वह पूरे दिन चार्ज हो जाए।

सुबह स्नान करने से शरीर का तनाव दूर होता हैं। दिन बेहतर हो जाते हैं। टब में नहाने को साधारण स्नान कहा जाता हैं और अगर आप शॉवर में तीन मिनट या पांच मिनट स्नान करते हैं तो ऐसा लगता हैं कि आपके जीवन की कोई समस्या हल हो गई हैं। लेकिन जब आप शॉवर से बाहर आते हैं तो ऐसा लगता हैं कि सब कुछ फिर से चला गया है परंतु उनके बावजूद गुडफिल लगता हैं।  

इसी तरह नदी में स्नान करने का भी एक अलग महत्त्व हैं। मेरे कहने का मतलब है कि सभी को नहाने से सकारात्मक ऊर्जा मिलती हैं, इसलिए सुबह का स्नान सबसे जरूरी हैं।

इन्हें भी पढ़े:- इम्यून सिस्टम कमजोर होने के कारण।

iii) तनाव कम करें। reduce stress.

तनावग्रस्त होने से हेप्पीनेश मूड का सहारा ले सकते हैं। अब यह हेप्पीनेश मूड कैसे आएगा। हेप्पीनेश मूड नहीं होने के कई कारण हैं।

a) स्वास्थ्य अच्छा नहीं रहेगा तो सुख की अनुभूति नहीं होगी और किसी तनाव सम्बंधी बीमारी के कारण आप तनाव में रह सकते हैं।

b) अगर नौकरी या व्यवसाय या किसी अन्य काम से परिवार चलता हैं तो उसमें कोई समस्या आ जाये तो खुशी का मूड चला जाता हैं और तनाव में दिन या कुछ दिन बीत सकता हैं जब तक वह समस्या न ठीक हो जाये।

c) पारिवारिक तनाव याने परिवार में कोई बड़ी समस्या आने पर भी तनाव हो सकता हैं। बढ़ता तनाव एक समस्या हैं, यह तनाव हमारे लिए बहुत हानिकारक भी हैं।

iv) तनाव मुक्त बातें। stress free sayings.

तनाव नींद से जुड़ा हैं और नींद की कमी से बड़ी समस्याएँ हो सकती हैं। क्या? कोई भी तनाव कम करना नया मानदंड हैं। इसके लिए तनाव प्रबंधन पर कुछ अच्छी किताबें मिल सकती हैं और आप स्वस्थ रहने के सरल तरीकों और अच्छी दैनिक आदतों के बारे में शोध कर सकते हैं।

या आप किसी भी मानसिक तनाव से छुटकारा पाने के तरीके पर एक वीडियो देख सकते हैं। तनाव दूर करने के लिए धार्मिक स्थलों का भी भ्रमण किया जा सकता हैं। यह भी सबसे अच्छा तरीका हैं।

धार्मिक स्थान पर मन को शांति अवश्य मिलती हैं। योग करने से तनाव कम होता हैं, विशेषज्ञ तनाव प्रबंधन में योग की भूमिका को मानते हैं। कम से कम 30 मिनट तक योग करें।

तनाव दूर करने के लिए योग करने से आप दिन भर में नई ऊर्जा दे पाते हैं। मेडिटेशन से तनाव कम होने की संभावना भी बढ़ जाती हैं। योग या ध्यान शरीर को राहत देने में मदद करता हैं और निश्चित रूप से तनाव को कम करता हैं।

इन्हें भी पढ़े:- बच्चों की इम्युनिटी कैसे बढ़ाये इन हिंदी।

v) खुश-स्वस्थ रहें। Be happy and healthy.

मुस्कुराएँ और तनाव दूर करें समय के साथ खुश रहने से तनाव भी कम होता हैं। इसलिए किसी भी हाल में तनाव कम करें और उनके समाधान के बारे में सोचते रहें।

सुखी-स्वस्थ रहने के तरीकों के बारे में अध्ययन करें। ऐसा माना जाता हैं कि खुश और स्वस्थ रहने से सभी इंद्रियाँ अच्छे से काम करती हैं और कोई भी फैसला अच्छे से लिया जा सकता हैं।

इन्हें भी पढ़े:- स्वस्थ व्यक्ति के लक्षण।

4.स्वस्थ रहने के लिए क्या खाना चाहिए। Swasth rahne ke liye kya khaana chahiye.

अगर आप सुबह का नाश्ता कर सकते हैं, तो इसे घर पर करें। किसान या देहाड़ी मज़दूर तो सुबह के नास्ता लगभग घर में रूखा सूखा ही सही कर लेते हैं परंतु मध्य वर्ग या कहे जाब पेसा वाले हड़बड़ी में घर के नास्ता नहीं कर पाते, कोशिश करे की घर के नास्ता के साथ घर के बना टिफिन भी साथ लेकर जाये ताकि सही व स्वस्थ खाना मिल सके।

हमेशा बाहर की तली हुई भुजा खाने से शरीर खराब होने लगता है और इससे पाचन क्रिया भी प्रभावित होने लगती है। मौसमी फल जैसे संतरा, अंगूर, अमरूद, आम को खाने में शामिल करें। अंकुरित चना, मूंग भी खाने में अच्छे होते हैं। फल और सब्जियां पोटेशियम, आहार फाइबर, विटामिन सी और फोलेट सहित कई आवश्यक पोषक तत्वों के स्रोत हैं।

फलों और सब्जियों से भरपूर आहार रक्तचाप को कम कर सकता है, दिल की धड़कन और स्ट्रोक के जोखिम को कम कर सकता है और कुछ प्रकार के कैंसर जैसे गंभीर समस्या को वही पर रोक सकता है। इसलिए स्वस्थ रहने के लिए घर का बना हुआ भोजन  सबसे बेहतर हैं। 

जरूरी बातें:- स्वस्थ रहने के घरेलु उपाय या स्वस्थ रहने के उपाय के बारे में अच्छे से जानते हो तो कृपया कमेंट बॉक्स में जाकर कमेंट करना न भूलें और बोतल्दा केयर में लिखी गई पोस्ट को बेहतर बनाने के लिए आपके सुझाव का स्वागत हैं। इस पोस्ट को अपने family और friend के साथ शेयर ज़रूर करे।

पोस्ट के लास्ट में सभी सोशल मीडिया के शेयर का बटन दिया हुआ है उसका उपयोग करते हुये शेयर ज़रूर करें।।

इन्हें भी पढ़े:- स्वस्थ रहने के सरल उपाय।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here