पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश के फायदे। Patanjali special chyawanprash benefits in hindi.

Patanjali special chyawanprash benefits in hindi
Image source=Google। image by – Flickr.com

Table of contents :-

पतंजलि च्यवनप्राश एक समृद्ध पोषण तत्वों के साथ प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में। Patanjali Chyawanprash as an immune booster with a rich nutritional content.

ऐसा माना जाता है कि प्राचीन भारतीय संस्कृति में ऋषि मुनियों ने प्राकृतिक जड़ी-बूटियों को मिलाकर, आयुर्वेद में श्वसन और प्रतिरक्षा प्रणाली को मज़बूत करने के लिए एक आयुर्वेदिक औषधि की खोज की थी।

यह आयुर्वेद में एक महान आविष्कार था। इस महान आविष्कार को भारतीय ऋषि मुनियों ने एक नया नाम दिया, जिसे “च्यवन” के नाम से जाना जाने लगा।

च्यवन अर्थात बढ़ती आयु, यौन शक्ति और श्वसन में वृद्धि, रोग प्रतिरोधक क्षमता को मज़बूत करने के लिए जड़ी-बूटियों के रूप में उत्कृष्ट औषधि हैं।

एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर टॉनिक दिल और शरीर को स्वस्थ और जवां रखता है। यह मधुमेह, गठिया, मनोभ्रंश आदि जैसे अपक्षयी रोगों के खिलाफ अत्यधिक फायदेमंद है।

यह भोजन के पाचन और पोषक तत्वों के अवशोषण में मदद करता है। च्यवनप्राश रक्त को शुद्ध करता है और लीवर की कार्यप्रणाली को मज़बूत करता है।

च्यवनप्राश स्वास्थ्य लाभ विटामिन और खनिजों में समृद्ध है जो मज़बूत हड्डियों और मांसपेशियों के निर्माण में मदद करता है।

हर्बल, आयुर्वेदिक और जैविक शुद्ध शाकाहारी उत्पाद है। patanjali special chyawanprash benefits in hindi.

1.पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश समीक्षा। patanjali chyawanprash review in hindi.

यहाँ हम आपके लिए पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश की समीक्षा लेकर आये हैं, जो आयुर्वेदिक इम्यूनिटी बूस्टिंग सपोर्टर्स का एक समूह हैं, जो एक अचूक रूप से इम्युनिटी लेबल को बूस्ट करने के लिए अद्भुत तरह से काम करता हैं।

आयुर्वेदाचार्यों के मत के अनुसार रोग से लड़ने के लिए शरीर को ठीक से फिट रखने के लिए आयुर्वेदिक प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले गुणों के साथ सर्वोत्तम च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए, जो हमारे शरीर के बाहरी और आंतरिक संक्रमण को रोकने के लिए शक्ति प्रदान करते हैं।

इम्युनिटी लेबल को मजबूती से स्वस्थ रखने के लिए पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश का सेवन किया जा सकता हैं। जो सेहत के लिए अच्छे माने जाते हैं।

पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश शरीर में रोग प्रतिरोधक छमता विकसित करने के साथ-साथ स्वस्थ और तंदुरुस्ती बनाये रखने के लिए फायदेमंद माना गया हैं।

पतंजलि च्यवनप्राश आयुर्वेद में भारतीय परंपरा से लिया गया हैं। हमारे प्राचीन परंपरा की देन हैं। पतंजलि च्यवनप्राश सबसे अच्छा हर्बल फॉर्मूलेशन हैं और न केवल बीमार लोगों के लिए बल्कि स्वस्थ लोगों के लिए भी उत्कृष्ट प्रदान करता हैं।

पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश एक आयुर्वेदिक टॉनिक है जो प्राचीनतम तकनीकी पर आधारित हैं जिसमें आंवला (भारतीय आंवला) , एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन-सी का मुख्य घटक हैं।

इसे आमतौर पर “जीवन का अमृत” कहा जाता है क्योंकि इसमें कई और उच्च पोषण गुण होते हैं। पतंजलि ब्रांड का दावा हैं कि इसमें आयुर्वेदिक और हर्बल होने के कारण हर उम्र के लोग इसका सेवन कर सकते हैं।

इन्हे भी पढ़े:- डाबर च्यवनप्राश के फायदे।

2.पतंजलि च्यवनप्राश फॉर इम्युनिटी सिस्टम। patanjali chyawanprash for immunity in hindi.

पर्यावरणीय परिवर्तन जैसे मौसमी बीमारियों से एलर्जी का संक्रमण होने का खतरा होता है। रोग आमतौर पर मौसम बदलने के कारण होता है।

सर्दी, खांसी, जुकाम और अन्य एलर्जी से संक्रमित होने पर शरीर शिथिल होने लगता है। जिससे इम्यून सिस्टम कमजोर होने लगता है।

मौसम बदलने के साथ ही खाना खाने का तरीका भी बदलने लगता है। शरद ऋतु और बरसात के मौसम में वे गर्म खाना शुरू कर देते हैं, और गर्मी में वे ठंडी चीजें खाते हैं जो बदलते मौसम के साथ-साथ हमारे शरीर को भी बदल देते हैं और हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली मौसम के अनुसार नहीं बदलती या बदलने में देर हो जाती है।

जिससे शरीर का पाचन समय पर नहीं हो पाता और मौसमी संक्रमण और एलर्जी हो जाती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के बजाय कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली की ओर ले जाती है।

च्यवनप्राश के सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहती है और रोग प्रतिरोधक क्षमता कभी कमजोर नहीं होती इसलिए पतंजलि च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए जो हर मौसम में रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बना के रखे सके।

इन्हे भी पढ़े:- इंश्योर पाउडर के फायदे।

3.पतंजलि च्यवनप्राश केसर के साथ लाभ। chyawanprash patanjali benefits in hindi.

केसर के साथ पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश को खास बनती हैं। च्यवनप्राश के साथ केसर दैनिक स्वास्थ्य अनुपूरक को पूरा करता हैं जो कि पतंजलि च्यवनप्राश प्राचीन हर्बल फॉर्मूला के साथ 41+ से अधिक जड़ी-बूटियाँ के मिश्रण से बना हैं।

यह खनिज और एंटी-ऑक्सीडेंट के साथ बना हैं जो शरीर को चुस्त दुरुस्त बनाये रखता हैं। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और विटामिन सी का समृद्ध स्रोत है। इसमें आयुर्वेदिक इम्यून-बूस्टिंग के सम्पूर्ण गुण मौजूद हैं।

इसलिए इसे आमतौर पर “जीवन का अमृत” कहा जाता है क्योंकि यह कई और उच्च पोषण गुणों के कारण मानव जीवन प्रदान करता है। यह फायदेमंद है और इसका सेवन किया जा सकता है।

इन्हे भी पढ़े:- पीडिया श्योर।

4.पतंजलि च्यवनप्राश के घटक। patanjali special chyawanprash ingredients in hindi.

patanjali special chyawanprash ingredients in hindi.
Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

च्यवनप्राश एक प्राचीन आयुर्वेदिक औषधि है जिसमें स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती के लिए हर्बल मिश्रण से बनाया गया हैं। जो 41+ से भी अधिक प्राकृतिक व हर्बल तत्वों से बना हैं।

पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश के घटक (patanjali special chyawanprash ingredients) इस प्रकार हैं।

 i) दशमूल Dashmoo – भारतीय प्राचीन चिकित्सा पद्धति शरीर की ताकत में सुधार और अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए आयुर्वेद के अनुसार दस विभिन्न जड़ों का एक बहुत शक्तिशाली संयोजन हैं।

ii) खरेती Khareti (Sida cordifolia) – एक पौधा हैं जिसका उपयोग सूजन का इलाज़ करने के लिए किया जाता हैं। विशेष रूप से विभिन्न रोगों के लिए श्वसन सम्बंधी समस्याएँ जो केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और श्रवण को भी प्रभावित करती हैं।

iii) मुग्धपर्णी mugdhparni (phaseolus tribulus) – आयुर्वेद में इसका उपयोग पारंपरिक चिकित्सा में किया जाता हैं।

iv) पिप्पली छोटी pipali choti (piper longum) –  काली मिर्च कई आयुर्वेद दवाओं में एक महत्त्वपूर्ण और सामान्य सामग्री हैं।

v) मशपर्णी masparni (teramnus labialls) – आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में एक प्रसिद्ध औषधीय पौधा हैं। यह गठिया, तपेदिक, तंत्रिका विकारों, पक्षाघात और जुकाम के इलाज़ में उपयोगी बताया गया हैं।

vi) काकड़ा श्रृंगी kakda shringi (pistacia integerrima) – आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में खांसी, अस्थमा, बुखार, उल्टी और दस्त के लिए पारंपरिक जड़ी-बूटियों में लीफ गॉल का उपयोग किया जाता हैं।

vii) भूमि आंवला  bhumi amla (phyllanthus niruri) – का उपयोग आयुर्वेद चिकित्सा में एंटीवायरल गतिविधियों के कारण लीवर को होने नुक़सान को ठीक करने के लिए किया जाता हैं, साथ ही यह गैस्ट्रिक एसिड के उत्पादन को कम करके अल्सर को रोकने में मदद करता हैं।

viii) द्रक्षा draksha (vitis vinifera) – आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में उपयोगों में बवासीर के रक्तस्राव, दर्द और सूजन को रोकने के लिए उपयोग की जाने वाली पत्तियाँ शामिल हैं।

गले में खराश के इलाज़ के लिए कच्चे अंगूरों का उपयोग किया जाता था और किशमिश को खपत (तपेदिक) , कब्ज और प्यास के उपचार के रूप में दिया जाता था।

पके अंगूर का उपयोग कैंसर, हैजा, चेचक, मतली, त्वचा और आंखों के संक्रमण के साथ-साथ गुर्दे और यकृत रोगों के उपचार के लिए किया जाता था।

ix) जिवंती jivanti (leptadenia reticulate) – यह आयुर्वेद में विशेष रूप से अपने उत्तेजक और पुनर्स्थापनात्मक गुणों के लिए जाना जाता हैं और यह कई प्रसिद्ध आयुर्वेदिक योगों जैसे च्यवनप्राश, स्पीमन आदि का एक महत्त्वपूर्ण घटक भी हैं।

x) हरार harar (terminalia chebula) – आयुर्वेदिक सूत्रीकरण त्रिफला में एक मुख्य घटक हैं जिसका उपयोग आयुर्वेद में किया जाता हैं।

xi) गिलोय giloy (tinospora cordifolia) – इसकी जड़, तना और पत्तियों का उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता हैं। फीवर, एथलेटिक प्रदर्शन, मधुमेह, उच्च कोलेस्ट्रॉल, पेट की ख़राबी, घुन (खुजली) के कारण होने वाला एक खुजलीदार त्वचा संक्रमण और कई अन्य स्थितियों के लिए किया जाता है, परंतु ऐसे माना जाता हैं कि इनके इस्तेमाल के पक्ष में कोई वैज्ञानिक साक्ष्य नहीं माना गया हैं।

xii) रिद्धि riddhi (habenaria intermedia) –  का उपयोग पारंपरिक रूप से कई हर्बल तैयारियों में इसके कायाकल्प और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने वाले गुणों के लिए किया जाता हैं।

इस जड़ी बूटी के कंद वाले पॉलीहरबल फॉर्मूलेशन में गुण होते हैं जैसे-महत्त्वपूर्ण ऊर्जा से भरपूर, एंटीऑक्सिडेंट में उच्च और प्रतिरक्षा बूस्टर।

xiii) जीवक jivak (malaxis acuminate) – यह अष्टवर्ग समूह की जड़ी-बूटियों में से एक हैं। इसकी तैयारी टॉनिक और कायाकल्प करने वाली दवा मानी जाती हैं।

xiv) नागरमोथा nagarmotha (cyperus rotundus) – आयुर्वेद मुख्य रूप से विभिन्न औषधीय प्रयोजनों के लिए जड़ों के उपयोग का सुझाव देता हैं।

प्राचीन काल से रोगों के उपचार के लिए उपयोग किया जाता हैं। वे या तो ताज़ा या सूखे या काढ़े में तैयार किए जाते हैं।

xv) पुनर्नवा punarnava (boerhaavia diffusa) – यह दर्द से राहत और अन्य उपयोगों के लिए हर्बल दवा में लिया जाता हैं इसका उपयोग भारतीय आयुर्वेद द्वारा अनुशंसित एनीमिया और यकृत रोगों के उपचार में भी किया जाता हैं।

xvi) मेडा maida (polygonatum cirrhifollum) – माना जाता हैं कि विभिन्न अंगों को मज़बूत करने लिए माना जाता हैं। मानसिक जीवन शक्ति के लिए एक पुनर्स्थापक माना जाता हैं, खासकर जब मन अधिक काम करता हैं, अत्यधिक तनावग्रस्त होता है, या थकावट की स्थिति में होता हैं।

xvii) नीलोत्पल nilotapal (nymphaea nouchali) – को भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में अंबाल नाम से एक औषधीय पौधा माना जाता हैं, इसका उपयोग मुख्य रूप से अपच के इलाज़ के लिए किया जाता था।

xviii) विदारीकंद vidarikand (puraria tuberosa) –  इसका उपयोग विभिन्न प्रयोजनों के लिए और आयुर्वेदिक संहिता में वर्णित विभिन्न प्रकार के योगों में रोगों के उपचार के लिए किया जाता है। यह अनेक प्रकार के बीमारियों और इसके गुणों पर कई शोध हुए हैं।

xix) अडुसा adusa (adhatoda vasica) – पोषक तत्वों से भरपूर इस अद्भुत कायाकल्प जड़ी बूटी के कई स्वास्थ्य लाभ हैं जिनमें खांसी और सर्दी, अस्थमा, उच्च रक्तचाप का प्रबंधन, पाचन को बढ़ावा देना, प्रतिरक्षा को बढ़ावा देना और गले में खराश और साइनसिसिस से राहत प्रदान करना शामिल है।

xx) काकोली kakoli (roscoea alpine) – का प्रयोग आयुर्वेद में हृदय रोगों को ठीक करने, जुकाम, गले में सूजन, गठिया, मधुमेह, तंत्रिका तंत्र के रोगों, पाचन को उत्तेजित करने, रक्त शुद्ध करने के लिए किया जाता है।

xxi) काकनासा kaknasa (martynia diandra) – यह विभिन्न बीमारियों के उपचार के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में एक अत्यधिक स्पष्ट पौधा हैं।

पौधे का उपयोग पारंपरिक रूप से मिर्गी, पेचिश, हृदय सम्बंधी समस्याओं, कृमि संक्रमण, कब्ज, रक्तस्राव, जीवाणुरोधी संक्रमण, डिसुरिया, बुखार और अल्सर के उपचार के लिए किया जाता हैं।

xxii) अश्वगंधा ashwagandha (withania somnifera) – सदियों से पारंपरिक भारतीय चिकित्सा में उपयोग किया जाता रहा हैं एक प्राचीन औषधीय जड़ी बूटी हैं।

xxiii) मुलेठी mulethi (glycyrrhiza glabra) –  एक छोटी बारहमासी जड़ी बूटी हैं जो परंपरागत रूप से श्वसन सम्बंधी विकार, हाइपरडिप्सिया, मिर्गी, बुखार, यौन दुर्बलता, पक्षाघात, पेट के अल्सर, गठिया, त्वचा रोग, रक्तस्रावी रोगों जैसे कई रोगों के इलाज़ के लिए उपयोग की जाती हैं।

xxiv) पिपला मूल pipala mool (piper longum) – यह आमतौर अस्थमा, कब्ज, सूजाक, जीभ का पक्षाघात, दस्त, हैजा, क्रोनिक मलेरिया, वायरल हेपेटाइटिस, श्वसन संक्रमण, पेट दर्द, खांसी और ट्यूमर के इलाज़ के लिए प्रयोग किया जाता हैं।

xxv) शतावरी stavar (asparagus racemosus) – आयुर्वेद के चिकित्सकों के अनुसार, शतावरी में शीतलन, शांत करने वाले गुण होते हैं जो वात और पित्त (तीन दोषों में से दो) को शांत और संतुलित करने में मदद कर सकते हैं।

xxvi) छव्य chavya (piper rerofractum) – काली मिर्च आयुर्वेद की कई दवाओं में एक महत्त्वपूर्ण और सामान्य घटक हैं। पौधे के फल का उपयोग दवा बनाने के लिए किया जाता हैं।

भारतीय लंबी काली मिर्च का उपयोग कभी-कभी आयुर्वेदिक चिकित्सा में अन्य जड़ी-बूटियों के संयोजन में किया जाता हैं।

इनका उपयोग भूख और पाचन में सुधार के साथ-साथ पेट दर्द, अपच, आंतों की गैस, दस्त और हैजा के इलाज़ के लिए किया जाता हैं।

xxvii) चित्रक मूल chitrak mool (plumbago zeylanica) –  जिसका उपयोग आयुर्वेद द्वारा अनुशंसित जिद्दी पुराने गठिया, त्वचा रोगों और ट्यूमर के उपचार में किया जाता हैं।

इसका उपयोग पुराने मासिक धर्म सम्बंधी विकारों, वायरल मस्सों और तंत्रिका तंत्र के पुराने रोगों को ठीक करने में भी किया जाता हैं।

xxviii) सोंठ sonth (zingiber officinale) –  ताज़ा धुला हुआ अदरक-अदरक दुनिया भर में इस्तेमाल किया जाने वाला एक बहुत लोकप्रिय मसाला हैं।

चाहे भोजन में मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाए या दवा के रूप में, पूरे विश्व में अदरक की मांग पूरे इतिहास में एक समान रही हैं।

अदरक का उपयोग विभिन्न प्रकार के भोजन या दवा की वस्तुओं में इस्तेमाल किया जा सकता हैं।

xxix) वराहीकंद varahikand (dioscorea bulbifera) – दस्त और पेचिश, अन्य बीमारियों के इलाज़ के लिए एक लोक उपचार के रूप में किया गया है। पेस्ट का उपयोग त्वचा के संक्रमण के खिलाफ किया जाता है।

xxx) आंवला पिष्टी amla pishti (emblica officinalis) – का उपयोग त्वचा को मुक्त कणों, गैर-रेडिकल्स और संक्रमण धातु-प्रेरित ऑक्सीडेटिव तनाव के विनाशकारी प्रभावों से बचाने के लिए किया जाता है।

यह एंटी-एजिंग, सामान्य प्रयोजन त्वचा देखभाल उत्पादों और सनस्क्रीन के रूप में उपयोग के लिए उपयुक्त हैं। इसमें एक मज़बूत स्मृति बढ़ाने वाली संपत्ति होती है। आंवला पिष्टी को माना जाता है कि यह सबसे अच्छा रोगाणुरोधी हैं।

xxxi) घृत (घी) ghrit (ghee) – घी डीप फ्राई करने के लिए एक आदर्श वसा है। हड्डियों को मज़बूत करता है, यह सूजन को कम करता हैं।

आँख की मांसपेशियों और ऑप्टिक तंत्रिका को मज़बूत करता हैं और दृष्टि में काफ़ी सुधार करता हैं। आंखों को तरोताजा करने के लिए सिर दर्द से राहत दिलाएँ और आंखों की रोशनी बढ़ाता हैं।

xxxii) चीनी sugar (saccharum officinalis) – यह आंतरिक और बाह्य दोनों तरह से पारंपरिक चिकित्सा में भी प्रयोग किया जाता हैं। चीनी अप्रिय दवाओं का एक सामान्य सहायक हैं। कुछ जातियों को जादुई माना जाता हैं और उनका औपचारिक रूप से उपयोग किया जाता हैं।

xxxiii) प्रकाश द्रव्य prakshep dravya (processed with) –  आयुर्वेदिक दवाओं का मानकीकरण गुणवत्ता के लिए एक महत्त्वपूर्ण और आवश्यक माप हैं। दवाओं का नियंत्रण। अच्छी गुणवत्ता के लिए उपयोग।

xxxiv) वंशलोचन vanshlochan (bambusa arundinaceae) –  बांस में मैग्निशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, पोटाशियम, फॉस्फोरस होने के कारण ये आयुर्वेद में इसको औषधी के रूप में प्रयोग किया जाता है।

xxxv) पिप्पली छोटी pipali choti (piper longum) – पिप्पली एक साधारण मसाला हैं जो कई स्वास्थ्य लाभों से भरपूर हैं। आवश्यक जैव सक्रिय अवयवों की अच्छाई इसका व्यापक रूप से मधुमेह के प्रबंधन, श्वसन रोगों के उपचार, वज़न घटाने को बढ़ावा देने, संक्रमण को रोकने और बहुत कुछ के लिए उपयोग किया जाता हैं।

xxxvi) दालचीनी dalchini (cinnamomum zeylanicum) – दालचीनी को प्राचीन काल से जाना जाता हैं। दालचीनी का उपयोग मुख्य रूप से विभिन्न प्रकार के व्यंजनों, मीठे और नमकीन व्यंजनों, नाश्ते के अनाज, स्नैकफूड, चाय और पारंपरिक खाद्य पदार्थों में सुगंधित मसाले और स्वाद बढ़ाने वाले योजक के रूप में किया जाता हैं।

xxxvii) लघु इला laghuela (elletaria cardamomum) –  इलायची के अच्छे स्वास्थ्य लाभ हैं, इसके एंटीऑक्सीडेंट और मूत्रवर्धक गुण रक्तचाप को कम करने के लिए जाने जाते हैं।

अल्सर सहित पाचन समस्याओं में मदद कर सकता हैं। सांसों की दुर्गंध का इलाज़ करने में हेल्प करता हैं और कैविटी को रोकता हैं।

xxxviii) तेजपात्रा tejpatr (cinamomum tamala) – अपने औषधीय गुणों के लिए जाना जाता हैं। इसमें एंटीऑक्सिडेंट, रोगाणुरोधी, सूजनरोधी, कैंसर विरोधी, पीड़ा-नाशक, पाचन उत्तेजक और कई अन्य गुण पाये जाते हैं।

xxxix) नागकेसर naagkesar (messua ferrea) –  के फूल, पत्ते, बीज और जड़ का उपयोग हर्बल औषधि के रूप में किया जाता हैं। भीषण सर्दी के लिए पत्तियों को क्लोस्मा के रूप में सिर पर लगाया जाता हैं।

xxxx) केसर keasar (crocus sativus) – में कई औषधीय रूप से महत्त्वपूर्ण गतिविधियों के लिए जाना जाता हैं, यह स्मृति और सीखने के कौशल में भी सुधार करता हैं और रेटिना और कोरॉइड में रक्त के प्रवाह को बढ़ाता हैं।

xxxxi) गोदंती भस्म godanti bhasma (calcined calcium sulphate) – यह आयुर्वेदिक दुनिया में बुखार और संक्रमण के प्रबंधन के लिए जाना जाता हैं। इसके औषधीय इस्तेमाल और स्वास्थ्य लाभ के लिए जाना जाता हैं।

xxxxii) अभ्रक भस्म abrak bhasma (calcined mica) – जिसका उपयोग आयुर्वेद में श्वसन सम्बंधी विकारों, यकृत और पेट के रोगों, मानसिक रोगों और मनोदैहिक विकारों के लिए किया जाता हैं।

xxxxiii) लवंग lavang (syzygium aromaticum) – लौंग आमतौर पर दांतों के दर्द, दांतों के काम के दौरान दर्द नियंत्रण और दांतों से सम्बंधित अन्य समस्याओं के लिए सीधे मसूड़ों पर लगाई जाती हैं।

xxxxiv) काली मिर्च kali mirch (piper nigrum) – यह मसालेदार तीखा मसाला आज दुनिया में सबसे पहले ज्ञात और सबसे व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले मसालों में से एक हैं।

इसका उपयोग स्वादिष्ट बनाने के लिए किया जाता हैं, विशेष रूप से नमकीन खाद्य पदार्थ, मांस व्यंजन, सॉस और स्नैक खाद्य पदार्थों के लिए।

xxxxv) कचूर kachoor (curcuma zedoaria) – सफेद हल्दी, या temu putih) एक बारहमासी जड़ी बूटी हैं। पश्चिम में मसाले के रूप में इसका उपयोग आज अत्यंत दुर्लभ हैं, इसकी जगह अदरक और कुछ हद तक पीली हल्दी ने ले ली हैं।

पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश के घटक (patanjali special chyawanprash ingredients) इस प्रकार के महत्वपूर्ण जड़ी बूटियों से बना हैं।

इन्हें भी पढ़े:- बोर्नविटा के फायदे इन हिन्दी।

5.च्यवनप्राश कब खाना चाहिए?। chyawanprash kab khaana chaahie?.

ठंड के मौसम में कोई भी च्यवनप्राश खाना चाहिए। लगभग सभी च्यवनप्राश में इसे प्राकृतिक और हर्बल सामग्री का उपयोग करके बनाया जाता है, जो एक हर्बल फॉर्मूलेशन है। जो शरीर को गर्म रखता है।

इसलिए च्यवनप्राश ठंड के मौसम में शरीर को गर्म रखता है, इसलिए यह बीमार या स्वस्थ लोगों के लिए भी अच्छा होता है। सर्दी, खांसी, जुकाम और अन्य एलर्जी से संक्रमित होने पर शरीर शिथिल होने लगता है।

जिससे इम्यून सिस्टम कमजोर होने लगता है। मौसम बदलने के साथ ही खाना खाने का तरीक़ा भी बदलने लगता है।

शरद ऋतु और बरसात के मौसम में वे गर्म खाना शुरू करते हैं, उसी गर्मी में वे ठंडी चीजें खाते हैं जो बदलते मौसम के साथ-साथ हमारे शरीर को भी बदल देती हैं और हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली मौसम के अनुसार नहीं बदलती या बदलती है।

पाचन तंत्र को नियंत्रण और संतुलन में रखने के लिए अच्छा च्यवनप्राश खाना चाहिए जो वायरस, एलर्जी से लड़ने में मदद करता है।

इन्हे भी पढ़े:- हॉर्लिक्स पीने के फायदे।

6.गर्मी में कौन सा च्यवनप्राश खाना चाहिए?। garmee mein kaun sa chyawanprash khaana chaahie?.

सभी च्यवनप्राश में इम्यून-बूस्टिंग के गुण होते है इस कारण से सभी च्यवनप्राश शरीर को गर्म रखते हैं। जो गर्मी के समय में नुकसान दायक हो सकता हैं।

इसलिए आंवला में समृद्ध, च्यवनप्राश को गर्मियों के दौरान यूज करना चाहिए जो शीतलता प्रभाव प्रदान कर सके।

शरीर में गर्मी के चलते अपच हो उनको ठीक करे साथ ही एसिड संतुलन बनाए रखे ऐसे च्यवनप्राश खाना चाहिये। जो पाचन तंत्र को नियंत्रित व संतुलन बनाये रखे और वायरस,एलर्जी से लड़ने में हेल्प करे।

7.क्या प्रेगनेंसी में च्यवनप्राश खाना चाहिए? kya Pregnancy mein chyawanprash khaana chaahie?

च्यवनप्राश एक प्राचीन आयुर्वेदिक औषधि है जिसमें आंवला (भारतीय आंवला), एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट और अनेक पोषक तत्वों के साथ भरपूर मात्रा में विटामिन सी होता है।

आयुर्वेद के एक्सपर्ट चवनप्राश में विटामिन सी का मुख्य घटक मानते है। चवनप्राश में प्राकृतिक तत्वो को सामिल किया गया जो पूर्ण रूप से हर्बल है तो उच्च पोषण गुणों का होना स्वभविक हैं।

इसलिए गर्भवती महिलाएं च्यिवनप्राश खा सकती हैं।

प्रेगनेंसी के दौरान च्यणवनप्राश बच्चे के विकास में मदद करता हैं। परंतु बेहतर होगा कि च्यपवनप्राश खाने से पहले अपने हेल्थ एक्सपर्ट से मिले और च्यसवनप्राश के बारे में बताये। डॉक्टेर के सुझाव सेहत के लिए सबसे बेहतर होता हैं।

इन्हे भी पढ़े:- प्रोटिनेक्स पाउडर के फायदे।

8.पतंजलि च्यवनप्राश कैसे खाये। patanjali chyawanprash uses in hindi.

पतंजलि च्यवनप्राश को आप गुनगुने पानी के साथ इस्तेमाल कर सकते हैं। या फिर इसे हो सके तो गुनगुने दूध के साथ लें सकते हैं।

वयस्कों के लिए दिन में 2 बार सुबह-साम पतंजलि च्यवनप्राश को खा सकते हैं। वयस्क: 1-2 चम्मच।

पतंजलि च्यवनप्राश को 6 साल से ऊपर वाले बच्चे दिन में एक बार बच्चे: 1 चम्मच।

पतंजलि च्यवनप्राश को 6 साल से कम उम्र के बच्चे को न खिलाये। यह पतंजलि कंपनी के सुरक्षा दिशा निर्देश में दिया हुआ कृपया ध्यान से सुरक्षा दिशा निर्देश कलाम को पढ़े।

यदि दूध या पानी में खाने के इच्छा न हो तो पतंजलि च्यवनप्राश को चाकलेट की तरह भी खा सकते हैं।

ज़्यादा जानकारी के लिए अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट से मिलकर राय ले सकते हैं और अपने चिकित्सक के निर्देशानुसार पतंजलि च्यवनप्राश को यूज कर सकते हैं। चिकित्सक की राय महत्त्वपूर्ण हैं इसलिए उनके सलाह लेने के बाद पतंजलि च्यवनप्राश इस्तेमाल करे।

9.पतंजलि च्यवनप्राश की कीमत। patanjali special chyawanprash price in hindi.

patanjali special chyawanprash price in hindi.
patanjali special chyawanprash price in hindi.

पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश खरीदने के लिए किसी दवा पर्ची की ज़रूरत नहीं है। आप इसे ऑनलाइन या किसी मेडिकल या आयुर्वेदिक मेडिकल स्टोर से खरीद सकते हैं।

आप ऑनलाइन खरीदने के लिए दिए गए लिंक Patanjali Special Chyawanprash पर क्लिक करके खरीद सकते हैं।

10.पतंजलि च्यवनप्राश साइड इफेक्ट। patanjali chyawanprash side effects in hindi.

पतंजलि च्यवनप्राश 41+ से अधिक जड़ी-बूटियों से बना एक उत्पाद हैं जो प्राकृतिक उत्पाद हैं।

आयुर्वेद विशेषज्ञों की राय के अनुसार, उनके चिकित्सा इतिहास में किसी भी प्रकार के दुष्प्रभाव (side effects) की संभावना नहीं हैं, फिर भी अगर आपको लगता हैं कि जब आपको कोई दुष्प्रभाव (side effects) हो रहा हैं तो तुरंत अपने स्वास्थ्य विशेषज्ञ से मिलें या अपने नज़दीक के पतंजलि संस्थान में सहायता के लिए बैठ आयुर्वेदाचार्य मिले।

वह आपकी समस्याओं का निदान करने के लिए हर संभव प्रयास करेंगे। जब तक आपकी समस्या का निदान नहीं हो जाता तब तक उत्पाद का उपयोग न करें।

डायबिटीज या अन्य कोई ऐसे बीमारी हैं जिससे शरीर को नुक़सान हो सकता हैं तो बिना डॉक्टर के सलाह के बिना पतंजलि च्यवनप्राश न खाये।

11.सुरक्षा दिशा निर्देश। Safety guidelines in hindi.

पतंजलि च्यवनप्राश खरीदने से पहले इन उत्पादों के निर्माण की तारीख देख लें। ये उत्पाद निर्माण की तारीख से 36 महीने के लिए बनाए जाते हैं।

उनके बाद इस उत्पाद का उपयोग न करें। यह उत्पाद एफएसएसएआई प्रमाण पत्र द्वारा प्रमाणित हैं, इसे पुरुषों और महिलाओं दोनों द्वारा खाया जा सकता हैं।

इसे 6 साल तक के बच्चे भी खा सकते हैं। 6 साल से कम उम्र के बच्चे को यह उत्पाद न खिलाएँ, पतंजलि च्यवनप्राश एक प्राकृतिक और हर्बल उत्पाद हैं। इनके बावजूद कंपनी ने छोटे बच्चे की सेहत को ध्यान में रखते हुए उत्पाद बनाया गया हैं।

इसलिए 6 साल से कम उम्र के बच्चे को पतंजलि च्यवनप्राश खाने को न दें। यदि कोई अन्य दवाई ले रहे हैं तो अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह के बाद पतंजलि च्यवनप्राश को इस्तेमाल करे।

पतंजलि च्यवनप्राश ऐसे तो सुरक्षित प्रोडक्ट हैं। परंतु उनके बावजूद अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट से मिलकर सलाह ले सकते हैं उनके बाद पतंजलि च्यवनप्राश को यूज कर सकते हैं। डॉक्टर की सलाह सबसे पहले है। उसकी सलाह का पालन करें।

12.पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश क्वेश्चन एवं आंसर। patanjali special chyawanprash question and answer.

Question 1: पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश को कितना साल के बच्चे खा सकते हैं।

Answer 1: पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश को 6 साल से ऊपर वाले बच्चे दिन में 1 बार 1 चम्मच खा सकते हैं।

Question 2: पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश खाने के क्या काय लाभ हैं?।

Answer 2: पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश खाने से खांसी, दमा, भूख में कमी, याददाश्त में कमी, फेफड़े, कान, नाक और गले के विकार में उपयोगी माना गया हैं।

Question 3: क्या पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक है?।  

Answer 3: पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश प्राकृतिक व हर्बल के साथ-साथ पूर्ण रूप से आयुर्वेदिक उत्पाद हैं।

कृपया पतंजलि स्पेशल च्यवनप्राश पढ़ने के बाद क्वेश्चन करे। यदि आपके पास बेहतर सुझाव हैं तो स्वागत हैं। च्यवनप्राश के बारे में अमूल्य जानकारी को अपने साथी, घर वाले के साथ शेयर करे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here