डाबर च्यवनप्राश के फायदे। Dabur chyawanprash ke fayde in hindi.

Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

Table of contents :-

अद्भुत परिणामों के लिए एक आयुर्वेदिक प्रतिरक्षा बूस्टर के रूप में डाबर च्यवनप्राश।Dabur Chyawanprash as an Ayurvedic immune booster for amazing results.

डाबर सबसे आम ब्रांड हैं जो प्राकृतिक स्वास्थ्य पूरक उत्पाद प्रदान करता हैं। डाबर च्यवनप्राश 40+ अवयवों के मिश्रण से बना एक आयुर्वेदिक और हर्बल उत्पाद हैं।

यदि आप अपनी प्रतिरक्षा में सुधार करना चाहते हैं और सक्रिय रहने के लिए अपनी सहनशक्ति को बढ़ाना चाहते हैं, तो डाबर च्यवनप्राश आपके उपभोग के लिए एक महत्त्वपूर्ण पूरक हो सकता हैं।

उत्पाद विशेष रूप से मौसमी बीमारियों और सामान्य बीमारी से लड़ने के लिए आंतरिक प्रणाली को बढ़ावा देने के लिए तैयार किया गया हैं और श्वसन प्रणाली के स्वस्थ कामकाज का भी समर्थन करता हैं।

विटामिन-सी का एक सिद्ध स्रोत माना गया हैं जो कई स्वास्थ्य लाभों के लिए काम करता हैं। यह असाध्य रोगों को रोक सकता हैं, स्वस्थ हृदय, शरीर के ऊर्जा स्तर को बनाए रखता हैं, पाचन तंत्र में सुधार करता हैं, रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता हैं।

रोगों का मुकाबला करने के लिए, शरीर को ठीक से फिट रखने के लिए, डाबर च्यवनप्राश का सेवन करना चाहिए जिससे शरीर चुस्त दुरुस्त रहे।

यहाँ हम आपको आयुर्वेदिक इम्युनिटी बूस्टिंग के रूप में डाबर च्यवनप्राश के फायदे बता रहे हैं। जो अद्भुत तरह से काम करता हैं। dabur chyawanprash ke fayde in hindi.

1.डाबर च्यवनप्राश 2X प्रतिरक्षा। Dabur chyawanprash 2x immunity benefits in hindi.

डाबर च्यवनप्राश इम्युनिटी को 2x मतलब डबल स्ट्रेंथ और स्टैमिना के साथ बूस्ट करने में मदद करता हैं।

देखा जाये तो डाबर च्यवनप्राश दोहरे प्रतिरक्षा की शक्ति के साथ-साथ आम दिनों के बीमारियों को ऐसे ही लड़ता हैं जैसे कोई योद्धा हजारों के बीच लड़ता हो और अकेले जीत के मादा रखता हो।

डाबर च्यवनप्राश 2X प्रतिरक्षा संक्रमण और एलर्जी से ऐसे ही लड़ता हैं और दोहरे प्रतिरक्षा को मज़बूत करते हुये शरीर को सुरक्षित रखता हैं।

डाबर च्यवनप्राश को विभिन्न प्रभावी औषधीय पौधों के मिश्रण से बनाया गया हैं। जो भारतीय आयुर्वेद के द्वारा अनुमोदित किया गया हैं।

डाबर च्यवनप्राश 2x इम्युनिटी, स्ट्रेंथ और स्टैमिना के साथ प्राकृतिक प्रतिरक्षा बूस्टर जैसे कि आंवला, पिप्पली, मुलेठी, गिलोय, अश्वगंधा आदि से भरे हुए वेज्ञानिक रूप से परीक्षण किया गया हैं।

जो डबल इम्युनिटी के लिए डाबर च्यवनप्राश 2X प्रतिरक्षा सबसे बेस्ट हैं।

इन्हें भी पढ़े:- बोर्नविटा के फायदे इन हिन्दी।

2.डाबर च्यवनप्राश गुड हेल्थ इन हिन्दी। Dabur chyawanprash is good for health in hindi.

यह अपने मज़बूत एंटीऑक्सिडेंट के कारण स्वास्थ्य की समग्र कल्याण के लिए सबसे अच्छा माना जाता हैं। जो हमारे शरीर के बाहरी और आंतरिक संक्रमण को रोकने की शक्ति रखता हैं।

इस वज़ह से डाबर च्यवनप्राश को हेल्थ के लिए सबसे बेहतर माना गया हैं।

i) इम्यूनिटी लेबल को बूस्ट करना.

डाबर च्यवनप्राश में 40+ से अधिक आयुर्वेदिक जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनाया गया हैं। जो बच्चे, वयस्क और बुजुर्गों के सर्वोच्च स्वास्थ्य लाभ के साथ मज़बूत प्रतिरक्षा के लिए काम करता हैं।

ii) शरीर को तर्वताजा रखना.

डाबर च्यवनप्राश के नियमित उपयोग से शरीर की प्राकृतिक रक्षा प्रणालियों में मदद मिलती हैं और शरीर को तर्वताजा बनाये रखता हैं।

यह पोषण के पूरक के रूप में उपयोग करने के लिए सुरक्षित माना गया हैं। इनके इस्तेमाल से मेटाबॉलिज्म अच्छा होता है और शरीर स्वस्थ रहता है।

iii) स्मरण-शक्ति को बढ़ाने में सहायक.

प्राचीन काल से आयुर्वेद में इस्तेमाल किया जाने वाला एक नुस्खा, च्यवनप्राश स्वास्थ्य लाभ के लिए बेहतर माना जाता हैं, जो हर्बल और आयुर्वेदिक हैं, इसमें लाभकारी तत्व होते हैं और याददाश्त बढ़ाने में मदद करते हैं।

माना जाता हैं कि च्यवनप्राश मस्तिष्क की कोशिकाओं को पोषण देने के साथ-साथ याददाश्त को तेज करता है। डाबर च्यवनप्राश बुजुर्गों और छोटे बच्चों दोनों के लिए याददाश्त बढ़ाने में मददगार माना जाता है।

इन्हे भी पढ़े:- पीडिया श्योर।

3.डाबर च्यवनप्राश खाने के क्या फायदे?। Dabur chyawanprash khane ke kya fayde? ।

प्राचीन काल से, आयुर्वेद में प्राकृतिक जड़ी बूटियों का उपयोग स्वास्थ्य लाभ के लिए आयुर्वेदिक पोषक तत्वों के रूप में किया जाता था।

इसी तरह, डाबर च्यवनप्राश खाने से बच्चों, वयस्कों और बुजुर्गों को सबसे अधिक स्वास्थ्य लाभ मिलता हैं। डाबर च्यवनप्राश कंपनी स्वास्थ्य लाभ के लिए दावा करती हैं।

दावा सही भी हो सकता हैं। डाबर च्यवनप्राश ने कंपनी के उत्पाद को वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित किया हैं। इसलिए ज़्यादा ड़ाउट की बात नहीं हैं।

यदि कोई संदेह हैं, तो आप अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट मिल सकते हैं और डाबर च्यवनप्राश खाने के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। नीचे कुछ कलाम दिए गए हैं जिनमें डाबर च्यवनप्राश खाने के फायदे बताये जा रहे हैं।

i) ताकत और सहनशक्ति में सुधार हेतु.

माना जाता हैं कि डाबर च्यवनप्राश खाने से ताकत और सहनशक्ति में सुधार होने लगता हैं। यह वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुका हैं। ऊर्जा बढ़ाता देने के लिए हर्बल व प्राकृतिक तत्व को सामिल किया गया हैं।

ii) रक्त की शुद्धि के साथ-साथ बेहतर करना.

डाबर च्यवनप्राश रक्त की शुद्धि और विषाक्त पदार्थों के उन्मूलन के लिए उपयोगी माना जाता हैं।

जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता हैं और रक्त को शुद्ध करता हैं। जिसके कारण, शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ जाती है।

iii) स्वस्थ पाचन और श्वसन क्रिया को ठीक करना.

डाबर च्यवनप्राश में एक प्राकृतिक और हर्बल घटक होने के नाते पाचन और श्वसन प्रणाली के स्वस्थ कामकाज का समर्थन करता हैं, डाबर च्यवनप्राश खाने से अम्लता, ऐंठन और अपच नहीं होने देता हैं।

चयापचय को बढ़ावा देता हैं। डाबर च्यवनप्राश की सामग्री स्वास्थ्य पर उनके लाभकारी प्रभावों के लिए वैज्ञानिक रूप से मान्य हैं।

विटामिन-सी और एंटीऑक्सीडेंट के एक सिद्ध और समृद्ध स्रोत के रूप में, डाबर च्यवनप्राश स्वास्थ्य लाभ की बाहुल्य प्रदान करता है।

iv) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को बनाए रखने में हेल्प करना.

डाबर च्यवनप्राश में गुड कोलेस्ट्रॉल होता हैं जो स्वस्थ रक्त शर्करा और कोलेस्ट्रॉल स्तर को बनाए रखने में मदद करता हैं।

v) खांसी और सर्दी जैसे कोई भी वायरल से लड़ना.

च्यवनप्राश विभिन्न प्रकार की प्राकृतिक जड़ी बूटियों का मिश्रण हैं। इसका उपयोग आयुर्वेद में प्राचीन काल से किया जाता हैं।

डाबर च्यवनप्राश 40+से अधिक आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों का एक चिकित्सकीय परीक्षण किया गया आयुर्वेदिक रूप हैं जो मौसम में बदलाव के कारण बैक्टीरिया, वायरस, धूल और खांसी और जुकाम के कारण होने वाले संक्रमण से शरीर की रक्षा करता हैं।

इन्हे भी पढ़े:- प्रोटिनेक्स पाउडर के फायदे।

4.डाबर च्यवनप्राश सामाग्री। Ingredients of dabur chyawanprash in hindi

डाबर च्यवनप्राश में मुख्य सामग्री ( ingredients) इस प्रकार हैं।

i) आंवला (Amla) एक पारंपरिक आयुर्वेदिक औषधीय जड़ी बूटी है जो रसायण, त्रिदोषजीत, चाकसूय एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करता है।

आंवला में कई रोगों को नष्ट करने की शक्ति होती है जैसे दाह, खांसी, श्वास रोग, कब्ज, रक्त पित्त, अरुचि, त्रिदोष, दमा, क्षय, छाती रोग, हृदय रोग, मूत्र विकार, सिर के बालों को काला, लंबा और घना बनाए रखना,

दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाने, पाचन शक्ति, आंखों की रोशनी में वृद्धि अन्य बहुत सारे अनगिनत रोगों के लिए आंवला को उपयोगी माना जाता हैं।

ii) शतावरी (Asparagus) – एक स्वादिष्ट सब्जी है जो ठंडे देश में उगती है। शतावरी पारंपरिक आयुर्वेदिक चिकित्सा में महत्वपूर्ण है। सूखे जड़ों से बने अर्क का उपयोग महिलाओं में विभिन्न प्रजनन और हार्मोनल मुद्दों के लिए किया जाता है।

इसका उपयोग गैस्ट्रिक अल्सर और अपच के मामलों में भी किया जाता है। शतावरी के प्रमुख औषधीय घटक स्टेरॉइडल सैपोनिन, म्यूसिलेज और एल्कलॉइड को माना गया हैं।

iii) पिप्पली (Pippali) – पिप्पली एक पारंपरिक आयुर्वेदिक औषधीय जड़ी बूटी है जो रसायण, दिपना, रुचिया के रूप में काम करती है।

यह कासा (खाँसी), स्वस (श्वसन रोग), उदर रोग (उदर रोग) पिप्पली को मैक्रोफेज के एक महत्वपूर्ण उत्प्रेरक के रूप में प्रेरित करता है।

पिप्पली (वानस्पतिक नाम Piper Longum) परिवार Piperaceae का एक फूलदार पौधा है। इसके फल के लिए इसकी खेती की जाती है।

यह फल आयुर्वेद में अपने मसालों, मसालों और औषधीय गुणों के लिए सुखाया जाता है। इसका स्वाद उनके परिवार के एक सदस्य के समान है, लेकिन यह काली मिर्च की तुलना में अधिक तीखा है।

इस परिवार के अन्य सदस्य दक्षिणी या सफेद मिर्च, गोल मिर्च और हरी मिर्च हैं।

iv) मुलेठी Muleti (Liquorice) – औषधीय गुण मुलेठी खांसी, गले की खराश, उदरशूल क्षयरोग, श्वातसनली की सूजन तथा मिरगी आदि के इलाज में उपयोगी है।

मुलेठी का सेवन आँखों के लिए भी लाभकारी है। इसमें जीवाणुरोधी क्षमता पाई जाती है। यह शरीर के अन्दमरूनी चोटों में भी लाभदायक होता है। भारत में इसे पान आदि में डालकर प्रयोग किया जाता है।

v) गिलोय Giloy Tinospora cordifolia एक औषधीय गुणों वाले पत्ता हैं। इनके पत्ते कस्से व कडवे साथ में तीखे भी होते हैं।

नीम के वृक्ष पर चढ़ी हुई गिलोय को सर्वोत्तम माना जाता है तो नीम के वृक्ष से उतारी गई गिलोय की बेल में नीम के गुण भी शामिल हो जाते हैं अतः नीमगिलोय सर्वोत्तम होती है।

पारंपरिक औषधि आयुर्वेद में, तिनोस्पोरा का उपयोग सदियों से विभिन्न बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता है। इसमें एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं।

vi) अश्वगंधा Ashwagandha पारंपरिक रूप से भारत में आयुर्वेदिक उपचार के लिए इस्तेमाल किया जाता है। अश्वगंधा एक महत्वपूर्ण पौधा है जिसका उपयोग आयुर्वेदिक चिकित्सा में किया जाता है।

आयुर्वेद में, अश्वगंधा को मेद्या रसायण भी कहा जाता है, जिसका उपयोग हमारे मस्तिष्क की एकाग्रता और एकाग्रता को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

अश्वगंधा में इसके औषधीय गुणों के कारण एंटी-ट्यूमर और एंटी-वायरल गुण भी होते हैं।

प्राकृतिक इम्युनिटी बूस्टर जैसे कि आंवला, पिप्पली, मुलेठी, गिलोय, अश्वगंधा आदि का पूर्ण रूप से चिकित्सीय परीक्षण आयुर्वेदिक फार्मूला है डाबर च्यवनप्राश की सामग्री स्वास्थ्य पर उनके लाभकारी प्रभावों के लिए वैज्ञानिक रूप से मान्य है।

इन्हे भी पढ़े:- हॉर्लिक्स पीने के फायदे।

5.डाबर च्यवनप्राश खाने का समय। Dabur chyawanprash khaane ka samay.

Dabur chyawanprash khaane ka samay.
Dabur chyawanprash khaane ka samay.

डाबर च्यवनप्राश खाने के समय आप के ऊपर निर्भर करता हैं। इस प्रोडक्ट को कभी भी खाया जा सकता हैं। परंतु ध्यान रहे ज़रूरत से ज़्यादा भी खा लेना सेहत के लिए खतरनाक हो सकता हैं।

नीचे कलाम में खाने के समय के बारे में बताने जा रहे हैं कृपया ज़रूर पढ़े।

i) डाबर च्यवनप्राश सुबह खाली पेट या नास्ते के बाद खाया जा सकता हैं। सुबह खाने से बेहतर माना जाता हैं। क्योकि दिन भर च्यवनप्राश की एनर्जी मिलता रहेगा और आसानी से दिन भर में पच जायेगा।

ii) डाबर च्यवनप्राश को दोपहर भोजन के बाद या उनके पहले ले सकते हैं। यह भी समय सबसे बेस्ट हैं। परंतु नौकरी पेशा या बिजनेस मेन लोगों को घर से इस समय बाहर रहना होता है तो डाबर च्यवनप्राश खाने के लिए उनके पास अवेलेबल नहीं रहता तो दिक्कत आती हैं।

iii) डाबर च्यवनप्राश रात के भोजन से पहले या बाद में भी लिया जा सकता हैं। यह भी समय सबसे बेस्ट हैं। इस समय में लगभग सभी लोग काम या ऑफ़िस से घर में आ जाते हैं। रात के समय रिलेक्स का रहता हैं।

इस समय खाने से शरीर में बेहतर फिल होने लगता हैं। डाबर च्यवनप्राश कितना खाना चाहिए किसके साथ खाना चाहिए नीचे कलाम में लिख रहे हैं ज़रूर पढे।

इन्हें भी पढ़े:- फिंगर पल्स ऑक्सीमीटर इन हिन्दी।

6.डाबर च्यवनप्राश उपयोग। Dabur chyawanprash uses in hindi.

डाबर च्यवनप्राश के समय के बारे में ऊपर के कलाम में बताया गया हैं इस कलाम में इस्तेमाल के बारे में जानकारी दी जा रही हैं।

i) डाबर च्यवनप्राश कंपनी के गाइडलाइन के मुताबिक 3 साल से कम उम्र के बच्चों को डाबर च्यवनप्राश न खिलाये।

ii) 3 साल से ऊपर के बच्चों के लिए दिन में एक बार 1 चम्मच देने की सलाह कंपनी के हेल्थ एक्सपर्ट ने दिया है तो इससे अधिक खिलाने की कोशिश न करे।

iii) वयस्कों के लिए दिन में 2 बार डाबर च्यवनप्राश को खा सकते हैं वह मात्र एक टाइम में 1 चम्मच की सलाह कंपनी के हेल्थ एक्सपर्ट ने दिया है।

iv) इसे पानी या दूध के साथ आसनी से लिया जा सकता हैं। यह आप के ऊपर निर्भर करता हैं कि आप किसके साथ डाबर च्यवनप्राश को यूज कर रहे हैं।

v) यह प्रायः देखा गया हैं कि डाबर च्यवनप्राश कई जनो को दूध के साथ अच्छा नहीं लगता तो वह पानी या चाकलेट कि तरह खा सकते हैं।

डाबर च्यवनप्राश सबसे बेहतर ब अच्छा प्रोडक्ट हैं। इसकी गुणवत्ता में कोई भी समझौता नहीं किया गया हैं। डाबर च्यवनप्राश के जानकारों का मत हैं। ऐसा ही डाबर च्यवनप्राश कंपनी का भी राय हैं।

7.डाबर च्यवनप्राश की कीमत। Dabur chyawanprash price in hindi.

डाबर च्यवनप्राश के क़ीमत (price) सबसे बेहतर हैं इतने सारे प्राकृतिक तत्व व हर्बल के सयोग से प्रोडक्ट बनाया हैं तो क़ीमत (price) दूसरे प्रोडक्ट से कम या ज़्यादा हो सकता हैं इसको इग्नोर करते हुये उत्पाद लिया जा सकता हैं।

इसे ऑनलाइन Amozon से खरीद सकते हैं। लिंक दिया हैं। Dabur chyawanprash.

डाबर च्यवनप्राश  (Dabur chyawanprash price) यहाँ से क्लिक करके देख सकते हैं और Amozon से भी खरीद सकते हैं।

8.क्या प्रेगनेंसी में च्यवनप्राश खाना चाहिए?। Kya preganensee mein chyawanprash khaana chaahie?।

Kya preganensee mein chyawanprash khaana chaahie.
Kya preganensee mein chyawanprash khaana chaahie.

डाबर च्यवनप्राश को गर्भावस्था में भी खाया जा सकता है। डाबर च्यवनप्राश कंपनी के स्वास्थ्य विशेषज्ञों ने सुरक्षित माना हैं लेकिन हर व्यक्ति के शरीर अलग-अलग होते हैं, प्रकृति ने सभी को अलग-अलग रंग और शरीर बनाए हैं।

हम यह मान सकते हैं कि हर किसी का शरीर एक जैसा नहीं होता। तो हो सकता हैं कि किसी गर्भवती महिला को च्यवनप्राश खाने से तबीयत खराब हो जाये और डाबर च्यवनप्राश के खाने से दिक्कत हो। इसलिए सबसे पहले अपने फेमली स्वास्थ्य विशेषज्ञ से परामर्श करें।

उनके बाद डाबर च्यवनप्राश को यूज करे। कोई भी दवाई या प्रोडक्ट के यूज से पहले स्वास्थ्य विशेषज्ञ की सलाह सभी के लिए बेहतर माना जाता है।

इन्हे भी पढ़े:- सेरेलक के फायदे इन हिंदी।

9.डाबर च्यवनप्राश साइड इफेक्ट। Dabur chyawanprash side effects in hindi.

डाबर च्यवनप्राश प्राकृतिक हर्बल उत्पाद हैं इस कारण से इसमें साइड इफेक्ट (side effects) के चांसेसे बहुत कम हैं। माना जा सकता हैं कि इस उत्पाद में दुष्प्रभाव हैं ही नहीं।

आयुर्वेदिक हिस्ट्री में डाबर च्यवनप्राश के दुष्प्रभाव के बारे में कही बताया नहीं गया हैं।

i) डाबर च्यवनप्राश को बिना पर्चे के कोई भी मेडिकल या आयुर्वेदिक स्टोर से लिए जा सकता हैं। इसे ऑनलाइन भी आर्डर करके मांगा सकते हैं। बहुत सारे ऑनलाइन प्लेटफार्म अवेलेबल हैं।

ii) डाबर च्यवनप्राश के अधिक सेवन से हो सकता हैं साइड इफेक्ट (side effects) हो जाये तो जितना ज़रूरत है उतना ही यूज करे।

iii) डायबिटीज या अन्य कोई बीमारी के इलाज़ चल रहा हैं तो बिना डॉक्टर के सलाह के बिना डाबर च्यवनप्राश न खाये।

iv) डाबर च्यवनप्राश ऐसे तो आयुर्वेदिक प्रोडक्ट है इसके इस्तेमाल सुरक्षित हैं उनके बावजूद अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह बिना डाबर च्यवनप्राश यूज न करे।

v) डाबर च्यवनप्राश से कोई भी साइड इफेक्ट (side effects) होता हैं तो इस्तेमाल बंद करे और तुरंत अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट से राय ले।

इन्हे भी पढ़े:- इंश्योर पाउडर के फायदे।

10.सुरक्षा दिशा निर्देश। Safety guidelines in hindi.

 डाबर च्यवनप्राश के इस्तेमाल के लिए दिये हुये सुरक्षा दिशा निर्देश को ध्यान से पढ़े। हो सकता हैं डाबर च्यवनप्राश खाने से पहले निर्देशानुसार को पढ़ने से आपको फायदा हो।

“जानकारी ही बचाव हैं” यह कहावत सही साबित हो सकता हैं। ऊपर इस्तेमाल के कलाम में खाने के समय व कितना खाना चाहिए बताया गया हैं। एक बार ज़रूर देखे।

i) डाबर च्यवनप्राश के उपयोग से पहले लेबल को ध्यान से पढ़े और उसमें दिया हुआ दिशा निर्देश को पालन करे।

ii) यह प्रोडक्ट को 3 साल से कम उम्र के बच्चे को न खिलाये, डाबर च्यवनप्राश हालकि प्राकृतिक व हर्बल प्रोडक्ट हैं। उनके बावजूद छोटे बच्चे के सेहत को ध्यान में रखते हुये इस्तेमाल से बचे।

iii) छोटे बच्चों से प्रोडक्ट को दूर बना के रखे ताकि वह बिना जाने समझे डाबर च्यवनप्राश को खा ले और सेहत पर बुरा असर पड़े।

iv) प्रोडक्ट को भंडारण सम्बन्धी दिशा निर्देश का पालन करे। शीतल एवं सूखी जगह पर भंडारित करें।

v) डाबर च्यवनप्राश कंपनी ने जितना खाने के की सलाह दी हैं उतना ही खाये। ज़्यादा खाने से सेहत पर बुरा असर हो सकता हैं।

vi) यदि कोई अन्य दवाई ले रहे हैं तो अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह के बाद डाबर च्यवनप्राश को इस्तेमाल करे।

vii) डाबर च्यवनप्राश ऐसे तो सुरक्षित प्रोडक्ट हैं। परंतु उनके बावजूद अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट से मिलकर सजेशन ले सकते हैं उनके बाद प्रोडक्ट को यूज कर सकते हैं।

डाबर च्यवनप्राश सम्बन्धी कोई भी प्राबलम को हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह से साल्व कर सकते हैं।

च्यवनप्राश के फायदे विकिपीडिया।

11.डाबर च्यवनप्राश 2X प्रतिरक्षा क्वेश्चन एवं आंसर। Dabur chyawanprash 2x immunity question and answer.

Dabur chyawanprash 2x immunity question and answer.
Dabur chyawanprash 2x immunity question and answer.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here