कोरोनिल के फायदे इन हिन्दी।Coronil benefits in hindi.

Coronil benefits in hindi.

इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में आयुर्वेदिक औषधि कोरोनिल। Ayurvedic medicine coronil as an immunity booster.

कोरोनिल एक इम्यूनिटी बूस्टर आयुर्वेदिक औषधि हैं जिसे क्लीनिकल ट्रायल में बेस्ट आयुर्वेदिक इम्यूनिटी बूस्टर औषधि के रूप में माना गया हैं।

कोरोनिल मनुष्य के फेफड़ों से लेकर पूरे शरीर की इम्यूनिटी को प्रभावी रूप से बूस्ट (instant boost) करने का काम करती हैं और कोरोना जैसे कोई भी संक्रमण के चेन को तोड़ते हुये, वायरस के असर को निष्क्रिय करने में काफ़ी हद तक सफलता हासिल की हैं।

यदि कोरोना वायरस शरीर में प्रवेश कर लेता हैं तो वह फेफड़ों की बेसिक यूनिट एल्वियोलाई (alveoli) को हाइजैक करते हुये उनकी अंत: कार्य प्रणाली को बाधित करने की चेस्टा करता हैं

और साइकोकाइल्स (cytokines) का तूफान खड़ा करने के बाद सैकड़ो व लाखों की संख्या में अपने जैसी अनेक डुप्लीकेट कांपी तैयार करने लगता हैं।

इस प्रक्रिया को निष्क्रिय करने के लिए कोरोनिल आयुर्वेदिक औषधि इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में काम करता हैं और शरीर को सुरक्षित रखने में सफल हो जाता हैं। इस प्रकार से कोरोनिल के बेनीफिट हैं। Coronil benefits in hindi.

 इन्हें भी पढ़े:- भाप लेने वाली मशीन।

1.कोरोनिल पतंजलि किट डिटेल्स इन हिन्दी।Coronil patanjali kit details in hindi.

Coronil patanjali kit details in hindi.
Coronil patanjali kit details in hindi.

कोरोनिल पतंजलि किट में औषधियों के रूप में दिव्य स्वशारी वटी, पतंजलि घनवटी, पतंजलि तुलसी घनवटी एवं पतंजलि अश्वगंधा कैप्सूल की संयुक्त एवं उचित मात्राओं तथा दिव्य तैल के प्रयोग किया गया हैं।

पतंजलि रिसर्च के सैकड़ों वैज्ञानिक ने मिलकर क्लीनिकल केस स्टडी clinical study तथा रेडमाइज्ड प्लेसिबों कन्ट्रोल्ड क्लीनिकल ट्रायल के बाद औषधि अनुसंधान drug discovery के सभी प्रोटोकाल्स का अनुपालन करते हुए कोरोना के लिए कोरोनिल आयुर्वेदिक औषधि की खोज की हैं।

इन प्रमुख जड़ी बूटियों को लंबे समय तक औषधीय लाभ के लिए जाना जाता है। प्रोडक्ट के प्राइस यहाँ से देखे।

इन्हे भी पढ़े – प्रोटिनेक्स पाउडर के फायदे।

2.श्वासारि वटी के फायदे इन हिन्दी। Swasari vati benefits in hindi.

श्वासारि वटी एक शुद्ध जड़ी-बूटियों से बना आयुर्वेदिक औषधि हैं फेफड़ों की इम्यूनिटी को लेबल को मज़बूत करने के लिए काम करती हैं।

इसमें बहुत सारे बीमारी को ठीक करने के गुण हैं इसलिए बहुगुणी के रूप में जाना जाता है

जैसे – सर्दी, खांसी, कान के रोग, डायबिटीज, रक्तपित्त, टीबी, सांसों के फूलने व हृदय रोग, स्त्री रोग और अन्य बहुत सारे बीमारियों को श्वासारि वटी ठीक करती है

इस प्रकार से श्वासारि वटी के अनेक फायदे हैं और कोरोना वायरस को लड़ने में भी श्वासारि वटी  अहम भूमिका निभा रही हैं।  

3.अश्वगंधा इन हिन्दी। ashwagandha in hindi.

अश्वगंधा प्राचीन जड़ी बूटियों में से एक हैं जिसमें एंटीऑक्सिडेंट गुण बेहतर रूप में मौजूद होते हैं। इन वज़ह से इम्यूनिटी सिस्टम को मज़बूत करता हैं।

जो कोरोनावायरस और अन्य इनके जैसे बहुत से बीमारियों को दूर भागने में मदद करती हैं।

विथेनोन (वाई-एन) नामक एक प्राकृतिक यौगिक के चलते अश्वगंधा में प्राकृतिक व जैव-क्रियाएँ के होने से वायरस की प्रतिकृति प्रक्रिया को अवरुद्ध करता हैं और कोरोनोवायरस जैसी घातक बीमारियों को ठीक करने की क्षमता रखता हैं।

कोरोनावायरस के रोगियों के इलाज़ के लिए तो अश्वगंधा अहम भूमिका निभाती हैं।

इसके अलावा, अश्वगंधा में कैंसर विरोधी गुण होते हैं और शरीर की मांसपेशियों में ताकत लाने में सहायता करता है। अश्वगंधा में इतने सारे बहुआयामी गुण होने के चलते अश्वगंधा के बहुत सारे फायदे हैं।

इन्हें भी पढ़े:- फिंगर पल्स ऑक्सीमीटर इन हिन्दी।

4.गिलोय का क्या काम हैं?। Giloy ka kya kaam hai?।

कोरोनिल किट में यूज किया गया सबसे बेहतरीन व इफेक्टिव एंटीऑक्सिडेंट औषधियों के रूप में गिलोय हैं जो सूजन को रोकने के साथ सूजन जैसे समस्या को ठीक करने के लिए जाना जाता हैं।

इसके अलावा गिलोय रक्त को शुद्ध करता हैं और साथ में इम्यूनिटी सिस्टम को बूस्ट करने के लिए जाना जाता हैं।

यह आयुर्वेदिक जड़ी बूटी शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में अहम भूमिका निभाता हैं और बैक्टीरिया और वायरस के खिलाफ जबरदस्त लड़ता हैं।

गिलोय एंटीऑक्सिडेंट औषधियों होने के चलते इनके रस के सेवन से बुखार से निजात मिलता हैं और ख़ासी के साथ या बिना ख़ासी के सास लेने में समस्या होने को जल्द ठीक करता हैं।

इसलिए कोरोनोवायरस जैसे संक्रमण को ठीक करने के गुण गिलोय में मौजूद हैं।

इन्हें भी पढ़े:- बच्चों की इम्युनिटी कैसे बढ़ाये इन हिंदी।

5.तुलसी के फायदे इन हिन्दी। tulsi benefits in hindi.

Tulsi benefits in hindi.
Tulsi benefits in hindi.

तुलसी को भारतीय समाज व संस्कृति में देवी के रूप में जाना जाता हैं इस कारण से भारत के अधिकांश घरों में या कोला बाड़ी में तुलसी के पौधा पाया जाता हैं।

तुलसी के महान औषधीय गुणों के कारण इसे ऋषि मुन्नियों ने आयुर्वेद में भी तुलसी के फायदे को बताये हैं।

तुलसी एक समृद्ध पोषण पौधा हैं। इसमें लोहा, जस्ता, विटामिन ए, सी, कैल्शियम आदि जैसे तत्व होते हैं। यह एक एडाप्टोजेन के रूप में कार्य करता हैं और मानसिक संतुलन को ठीक करने में सहायता करता हैं और दिमाक के कार्य क्षमता को बढ़ाने में सहयोग करता हैं।

विशेष रूप से, तुलसी खाँसी, सर्दी, दमा और ब्रोंकाइटिस जैसे श्वसन सम्बंधी कुछ विकारों की शुरुआत को रोकती हैं। इस तरह से तुलसी के बेहतरीन फायदे हैं।

इन्हे भी पढ़े:- डाबर च्यवनप्राश के फायदे।

6.कोरोनिल पतंजलि किट यूज इन हिन्दी। Coronil patanjali kit uses in hindi.

यह कोरोना रोगियों के स्वशान तंत्र (respiratory system) को मज़बूत करते हुये रोग प्रतिरोधक क्षमता (immunity) को बढ़ाने के साथ लक्षणिक (symptomatic) एवं संस्थानिक चिकित्सा में वैज्ञानिक रूप से प्रमाणित व महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

कोरोना के रोगियों के लिए यह औषधियों को यूज किया जाता हैं। रोगियों की सुगमता एवं आयुर्वेदिक औषधियों गिलोय, तुलसी, अश्वगंधा, कैप्सूल के साथ किए गए नैदानिक अनुसंधान (clinical research)

के आधार पर तथा शास्त्रीय आयुर्वेदिक औषधि की मात्रा ज्ञान का उपयोग करते हुये दिव्य कोरोनिल टेबलेट्स के रूप में सम्मिश्रण तैयार किया गया हैं।

इन्हे भी पढ़े:- प्रोटिनेक्स पाउडर के फायदे।

7.कोरोनिल औषधियों की मात्रा व सेवन विधि। Coronil aushadhiyon kee maatra va sevan vidhi.

1) दिव्य स्वशारी वटी 2-2 गोलियाँ दिन में तीन बार सुबह नास्ते व दोपहर भोजन के आधा घंटा पहले गर्म जल से सेवन करे।

2) दिव्य कोरोनिल टेबलेट्स। 2-2 गोली दिन में तीन बार सुबह नास्ता, दोपहर व रात भोजन के आधा घंटा बाद गर्म जल से सेवन करे।

3) दिव्य अणु तैल। प्रतिदिन एक बार नास्ते से 1 घंटा पहले दोनों नासिकाओं में 4-4 बूंद डालें।

नोट:-इस औषधि का सेवन कोरोना से बचाव (prevention) के लिए भी किया जा सकता हैं। इसका सेवन इस प्रकार से करे।

i) दिव्य स्वशारी वटी 2-2 गोलियाँ दोनों समय खाने से पहले आधा घंटा पहले ग्राम आधा घंटा पहले गर्म जल से सेवन करे।

Ii) दिव्य कोरोनिल टेबलेट्स। गोलियाँ दोनों समय खाने से पहले आधा घंटा पहले ग्राम आधा घंटा पहले गर्म जल से सेवन करे।

उपर्युक्त वर्णित औषधि सेवन व मात्रा 15 से 80 वर्ष आयु वाले व्यक्तियों के लिए हैं। 6 से 14 वर्ष आयु वाले बच्चे उपर्युक्त वर्णित औषधि की मात्रा का प्रयोग कर सकते हैं।   

8.पतंजलि कोरोनिल विशेष मार्गदर्शन। Patanjali coronil Special guidance.

i) यदि अनुकूल-वातवरन मिले तो भ्रमण आदि करे। यह सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिए उपयोगी जीवन पद्धति का हिस्सा हैं।

Ii) सामान्य रूप से शुद्ध, सात्विक, अहिंसक भोजन करे। यदि सर्दी, फीवर, या कोरोना पजिटिव हो गए हैं तो दिनभर गरम पानी का सेवन करे। तीखा, तला, ठंडा, घी, तेल, आदि का सेवन न करे।

iii) किसी भी आपातकाल को स्थिति / आकस्मिक अवस्था emergency / critical caondition / स्वसन में अधिक कठिनाई में भारत सरकार द्वारा निर्धारित चिकित्सा का पालन करे।

9.पतंजलि कोरोनिल क्वेश्चन एवं आंसर। Patanjali coronil question and answer.

Patanjali coronil question and answer.
Patanjali coronil question and answer.

 Question-1:- क्या कोरोना के कारण होने वाली कमलिकेश्न्स (complications) तथा सिमटम्स (symptoms) पर भी ये औषधि प्रभावी असर करती हैं?।

 Answer-1:- ये औषधि इस प्रक्रिया को बाधित करती हैं, साथ ही शरीर की फाइटर इम्यून सेल्स (fighter immune cells) को बढ़ाकर कोरोना वायरस के संक्रमण को अंत्यन्त प्रभावी ढंग से नियंत्रण करती हैं।

Question-2:- क्या कोरोनिल के उपयोग से 14 दिन में कोरोनोवायरस ठीक हो जाता हैं?।

Answer-2:- कोरोनिल से 14 दिनों के भीतर कोरोनोवायरस के इलाज़ संभव हैं यह दावा पतंजलि रिसर्च संस्थान ने किया हैं।

योग गुरु स्वामी राम देव जी ने कोरोनिल को लांच करते हुये कहा हैं “इसमें महत्त्वपूर्ण प्राकृतिक व आयुर्वेदिक तत्वों

जैसे-अश्वगंधा, गिलोय और तुलसी से बने कोरोनिल को सुबह और शाम लेने से केवल 5 से 14 दिनों में रोगियों का इलाज़ हो जाता है”।

Question-3:- क्या पतंजलि कोरोनिल ऑनलाइन (online) मिलती हैं?। प्रोडक्ट के प्राइस यहाँ से देखे।

Answer-3:- जी हाँ कोरोनिल किट को ऑनलाइन (Amozon) में जाकर पतंजलि कोरोनिल किट खरीद सकते हैं।

Question-4:- कोरोनिल क्या है?

Answer-4:- यह एक आयुर्वेदिक औषधि हैं जिसे पतंजलि रिसर्च और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, जयपुर द्वारा संयुक्त शोध में विकसित किया गया है।

यह कोरोनावायरस रोगियों के लिए चिकित्सकीय रूप से अनुमोदित आयुदेदिक औषधि होने का दावा योग गुरु बाबा रामदेव जी ने किया है।।  

  

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here