एप्टामिल इन हिन्दी। Aptamil benefits in hindi.

aptamil benefits in hindi.
mage source=Google। image by-flickr.com/photos.

एप्टामिल प्रीबायोटिक्स के साथ शिशु फार्मूला मिल्क पाउडर। Infant Formula Milk Powder with Aptamil Probiotics.

शिशु के आहार में प्रीबायोटिक्स युक्त खाद्य पदार्थ को इस्तेमाल किया जाना चाहिए क्योंकि प्रीबायोटिक्स युक्त खाद्य पदार्थ आंतों की सूजन को कम करते हैं और आंत में अच्छे बैक्टीरिया को उत्तेजित करते हैं, प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करते हैं।

बच्चों को ऐसे शिशु फार्मूला मिल्क पाउडर / आहार देना चाहिए जो इष्टतम पोषण सम्बंधी सहायता प्रदान करता हो।

एप्टामिल प्रीबायोटिक्स ऐसा मिल्क पाउडर हैं जो मस्तिष्क के विकास और दृष्टि तीव्रता का समर्थन करने के लिए डीएचए और एआरए के अनुकूलित मिश्रण होने के कारण संतुलित, उम्र के अनुकूल पोषक तत्व प्रदान करता हैं जो बच्चे के समग्र विकास और विकास का समर्थन करता हैं।

Aptamil वैश्विक स्तर पर Danone Nutricia का नंबर 1 शिशु फार्मूला हैं, जो अब भारत में उपलब्ध हैं। 100 से अधिक वर्षों से न्यूट्रिशिया शिशु पोषण में नवाचार के मामले में सबसे आगे रहा हैं, न्यूट्रिशिया परिवार का दृढ़ विश्वास हैं कि शिशुओं के लिए माँ का दूध सबसे अच्छा हैं। aptamil benefits in hindi.

1.एप्टामिल से शिशुओं को लाभ। aptamil ke fayde.

Aptamil एक बेबी फार्मूला मिल्क उत्पाद हैं जिसमें प्रीबायोटिक्स और GOS और FOS का संयोजन होता हैं। एप्टामिल इन्फैंट फॉर्मूला बेबी फीड के रूप में सबसे अच्छा शोधित फॉर्मूला मिल्क पाउडर हैं।

इसमें डीएचए, एआरए, विटामिन ए, सी, डी और आयरन जैसे आवश्यक पोषक तत्वों का संतुलित मिश्रण होता हैं। इसका अनूठा सूत्र बच्चों के बढ़ते चरण के दौरान उनके विकास को बढ़ावा देता हैं।

इनके मुख्य लाभ इस प्रकार हैं।

i) एप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला में डीएचए, एआरए, आयोडीन, आयरन, फोलिक एसिड आदि होते हैं जो बच्चे के स्वस्थ मस्तिष्क के विकास को बढ़ावा देने के साथ-साथ दृष्टि विकास को बढ़ावा देने के लिए जाने जाते हैं।

ii) एप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला में इसमें जीओएस, एफओएस, जिंक, मल्टी-विटामिन आदि भी होते हैं जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बूस्ट करता हैं।

iii) माना जाता हैं कि मट्ठा, कैसिइन और लैक्टोज का मिश्रण पाचन क्रिया के लिए सबसे बेहतर होता हैं।

iv) एप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला में प्रोटीन, कैल्शियम, फॉस्फोरस और विटामिन डी शामिल हैं जो हड्डियों के विकास में हेल्प करता हैं।

v) एप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला में बच्चे के समग्र विकास में मदद करने के लिए संतुलित, उम्र के अनुकूल पोषक तत्व होते हैं जो शिशु के लिए बेस्ट हैं।

जब स्तन का दूध अपर्याप्त या अनुपलब्ध होता हैं, तो आप्टामिल इन्फैंट फॉर्मूला 0 से 6 महीने की उम्र के बच्चों के लिए एक सबसे बेहतर विकल्प हैं यदि माँ के दूध पर्याप्त मात्र में आता हो तो एप्टामिल इन्फैंट फॉर्मूला को प्राथमिकता देना एक अच्छा विचार नहीं हैं।

इन्हे भी पढ़े:- नेस्ले सेरेग्रो।

2.एप्टामिल समीक्षा। aptamil review in hindi.

मुझे नहीं पता था कि मेरा सहकर्मी भी उसके 5 महीने के बच्चे को एप्टामिल शिशु फार्मूला खिलाता हैं। दोनों के बीच किसी प्रोडक्ट को लेकर चर्चा के दौरान उन्होंने मुझे आप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला मिल्क के बारे में बताया।

मैं जल्दी घर जाना चाहता था। ताकि मैं जल्द से जल्द प्रोडक्ट के बारे में रिसर्च कर सकूं और जानकारी हासिल कर सकूं। aptamil इन्फैंट फॉर्मूला मिल्क को लगभग सभी के द्वारा अच्छे रेटिंग दी गईं हैं जो इस उत्पाद कि सबसे खास बात हैं।

इस प्रोडक्ट को रिबयु, रेटिंग, दोस्तों से बातचीत के आधार पर समीक्षा लिखी गई हैं।

यदि आपको aptamil इन्फैंट फॉर्मूला मिल्क पाउडर के बारे में अच्छा नालेज या कोई अनुभव हैं तो बोतल्दा केयर के पाठकों के साथ अपने ज्ञान को साझा कर सकते हैं और बोतल्दा केयर के पाठकों के नालेज को बढ़ाने के लिए कमेण्ड्स बॉक्स में जाकर अपनी बातों को रख सकते हैं।

कृपया कमेण्ड्स बॉक्स में जाकर कमेण्ड्स कर सकते हैं और अपने ज्ञान को साझा कर सकते हैं। एप्टामिल के रिव्यू से जो बातें सामने आया, वह इस प्रकार हैं।

i) एप्टामिल के समीक्षा से यह पता चला कि यह प्रोडक्ट वैश्विक स्तर में मान्यता प्राप्त उत्पाद हैं जो अब भारत में उपलब्ध हैं। यह Danone Nutricia का नंबर 1 शिशु फार्मूला मिल्क पाउडर हैं जो स्तन के दूध पर 40 वर्षों से भी अधिक समय का शोध अनुभव के साथ प्रीबायोटिक ओलिगोसेकेराइड के साथ भारत का पहला शिशु फार्मूला हैं।

ii) यह उत्पाद उनके लिए सबसे बेस्ट जो बच्चे को स्तनपान करने में असमर्थ हैं या कोई कारण वश शिशु के स्वास्थ्य को देखते हुये माँ को स्तनपान कराना संभव न हो।

iii) यह अन्य फार्मूला मिल्क पाउडर से ज्यादा मीठा और गाढ़ा होता हैं। जो बाज़ार में उपलब्ध अन्य फॉर्मूला पाउडर की तरह कब्ज पैदा नहीं करता हैं। यह बातें सामने आई हैं।

iv) शिशुओं के लिए बहुत बढ़िया और गुणवत्तापूर्ण उत्पाद होने के नाते इसे पैसा वसूल उत्पाद भी कहा जा सकता हैं।

v) यह एक अंतरराष्ट्रीय ब्रांड हैं। जो Aptamil वैश्विक स्तर पर Danone Nutricia का नंबर 1 शिशु फार्मूला मिल्क पाउडर है।

vi) 100 से अधिक वर्षों से न्यूट्रिशिया शिशु पोषण में नवाचार के मामले में सबसे आगे रहा हैं, न्यूट्रिशिया परिवार का दृढ़ विश्वास हैं कि शिशुओं के लिए स्तन का दूध सबसे अच्छा हैं।  

vii) यह एक शाकाहारी उत्पाद हैं बताकर बेचा जाता हैं परंतु इस प्रोडक्ट में शाकाहारी उत्पाद का लेवल नहीं लगा होता हैं। कंपनी का मानना हैं कि यह बहुत सारे प्रोसेसिंग से गुजरता हैं जिसकी वजह से उन्हें शाकाहारी के रूप में लेबल करने से रोकती हैं।

viii) प्रोटीन, कैल्शियम, ऊर्जा, फास्फोरस, विटामिन डी और के होने के वजह से शिशु के पाचन स्वास्थ्य का समर्थन करता हैं। कंपनी का दावा हैं कि अनुकूल बैक्टीरिया को पनपने के लिए प्रोत्साहित करता है।

ix) aptamil इन्फैंट फॉर्मूला मिल्क पाउडर को जन्म से लेकर 2 साल तक पिलाया जा सकता हैं। परंतु यह अपने बच्चे को विशेष रूप से स्तन का दूध पिलाने और पूरक खाद्य पदार्थों के साथ आपके बच्चे को शुरुआती जीवन में सबसे अच्छा पोषण देने में मदद मिलेगी।

x) इस उत्पाद अन्य फार्मूला मिल्क पाउडर जैसा ही हैं परंतु कुछ बातें दूसरे प्रोडक्ट से इस उत्पाद को बेहतर बनती हैं। आप अपने बच्चे को खिलाने से पहले बाल रोग विशेषज्ञ से सलाह ले सकते हैं या अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह ले सकते हैं।

हेल्थ एक्सपर्ट जो भी सलाह दे उनको पालन करे। स्वास्थ्य सम्बंधी कोई भी उत्पाद, विशेषज्ञ की सलाह के बिना उपयोग करना जोखिम भरा हो सकता हैं, इसलिए पहले किसी हेल्थ एक्सपट से सलाह लें और फिर उत्पाद का उपयोग करें।

इन्हे भी पढ़े:- लैक्टोजेन मिल्क पाउडर।

3.एप्टामिल स्टेज 1 इन इंडिया। aptamil stage 1 benefits in hindi.

aptamil stage 1 benefits in hindi.
Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

Nutricia’ s Aptamil 1 प्रीबायोटिक्स के साथ शिशु फार्मूला पाउडर जो 0 से 6 महीने के बच्चों के लिए एक बढ़िया विकल्प हैं, परंतु यदि माँ के दूध नहीं आ रहा हैं या किसी कारण के वजह से माँ के दूध उपलब्ध नहीं हो पा रहा हैं तो उनके लिए आप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला एक उपयुक्त विकल्प के रूप में हैं।

न्यूट्रीशिया कंपनी का मानना हैं कि उनका रिश्ता शिशु पोषण में नवाचार के मामले में सबसे आगे रहा हैं और 100 वर्षों से अधिक समय तक शिशु पोषण उत्पादों के वैश्विक परिवार के साथ जुड़ना एक अद्भुत अनुभव रहा हैं।

न्यूट्रीशिया परिवार का दृढ़ विश्वास हैं कि माँ का दूध बच्चों के लिए सबसे अच्छा होता हैं। इसलिए माँ के दूध को सबसे पहले प्राथमिकता देनी चाहिए।

4.एप्टामिल स्टेज 2 इन इंडिया। aptamil stage 2 benefits in hindi.

Nutricia Aptamil 2 फॉलो अप इन्फेंट फॉर्मूला पाउडर 6 महीने के बाद के लिए बनाया गया सबसे बढ़िया उत्पाद। परंतु यदि माँ के दूध नहीं आ रहा हैं या किसी कारण के वजह से माँ के दूध उपलब्ध नहीं हो पा रहा हैं तो उनके लिए एप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला एक उपयुक्त विकल्प के रूप में हैं।

न्यूट्रीशिया कंपनी का मानना हैं कि उनका रिश्ता शिशु पोषण में नवाचार के मामले में सबसे आगे रहा हैं और 100 वर्षों से अधिक समय तक शिशु पोषण उत्पादों के वैश्विक परिवार के साथ जुड़ना एक अद्भुत अनुभव रहा हैं।

न्यूट्रीशिया परिवार का दृढ़ विश्वास हैं कि माँ का दूध बच्चों के लिए सबसे अच्छा होता हैं। इसलिए माँ के दूध को सबसे पहले प्राथमिकता देनी चाहिए।

इन्हे भी पढ़े:- नेस्ले नान प्रो इन हिन्दी।

5. एप्टामिल स्टेज 3 इन इंडिया। aptamil stage 3 benefits in hindi.

Nutricia Aptamil 3 फॉलो अप इन्फेंट फॉर्मूला पाउडर 12 महीने के बाद के लिए बनाया गया सबसे बढ़िया उत्पाद। परंतु यदि माँ के दूध नहीं आ रहा हैं या किसी कारण के वजह से माँ के दूध उपलब्ध नहीं हो पा रहा हैं तो उनके लिए एप्टामिल इन्फेंट फॉर्मूला एक उपयुक्त विकल्प के रूप में हैं।

न्यूट्रीशिया कंपनी का मानना है कि उनका रिश्ता शिशु पोषण में नवाचार के मामले में सबसे आगे रहा हैं और 100 वर्षों से अधिक समय तक शिशु पोषण उत्पादों के वैश्विक परिवार के साथ जुड़ना एक अद्भुत अनुभव रहा हैं।

न्यूट्रीशिया परिवार का दृढ़ विश्वास है कि माँ का दूध बच्चों के लिए सबसे अच्छा होता हैं। इसलिए माँ के दूध को सबसे पहले प्राथमिकता देनी चाहिए।

Aptamil वैश्विक स्तर पर Danone Nutricia का नंबर 1 शिशु फार्मूला हैं, जो अब भारत में उपलब्ध हैं। स्तन का दूध 40 वर्षों के अनुसंधान के बाद विकसित किया गया हैं जिसमें इष्टतम विकास को सुनिश्चित करने के लिए डीएचए एआरए, न्यूक्लियोटाइड्स, आयरन और फोलिक एसिड का एक अनुकूलित मिश्रण से बनाया गया हैं।

इन्हे भी पढ़े:- सेरेलक के फायदे इन हिंदी।

6.मिल्क पाउडर से दूध कैसे बनाएँ। aptamil powder uses in hindi.

aptamil powder uses in hindi.
Image source=Google। image by-flickr.com/photos.

यह बच्चे की भूख पर निर्भर करता हैं आप उनके भूख को पहचान कर उनके अनुरूप फार्मूला मिल्क पाउडर को बना सकते हैं। मिल्क पाउडर से दूध बनाना आसान हैं। आप हमेशा गर्म पानी का उपयोग करें ताकि पाउडर आसानी से और पूरी तरह से मिल जाए और मिल्क पाउडर को दूध के तरह बच्चे आसानी से पी सके।

प्रोडक्ट को यूज करते समय दिशा निर्देशों के अनुसार हाथ धोएँ और सभी बर्तनों को कीटाणुरहित करें। यह बच्चे के सेहत के लिए सबसे अच्छा होता हैं।

i) कभी भी उत्पाद को खरीदने से पहले या पैक को खोलने से पहले यह देख ले कि कही उत्पाद को छेड़छाड़ नहीं किया गया हैं। यह आपके द्वारा सुनिश्चित होना चाहिए कि प्रोडक्ट में कही छेड़छाड़ नहीं हुआ हैं।

ii) पैक में एक आसान लेवलर बनाया गया हैं। अपने स्कूप को ढक्कन में रखें ताकि वह सुरक्षित और सुरक्षित रहे। iii) अपने पाउडर को ताज़ा रखने के लिए ढक्कन को सुरक्षित रूप से बंद करें / क्लिक करें।

aptamil powder उपयोग करने का तरीका। How to use Aptamil powder.

शिशु फार्मूला दूध बनाते समय 1 लीटर पानी उबालना अच्छा माना जाता हैं। आपको 1 लीटर ताजे नल के पानी को उबालना चाहिए जब पानी पूरी तरह से उबल जाए तो मौजूद बैक्टीरिया मर जाएंगे।

70 डिग्री सेल्सियस तक तापमान होने तक या लगभग 30 मिनट का समय लगता हैं इंतजार करे यह फ़ीड बनाने के लिए यह आदर्श तापमान हैं, क्योंकि पाउडर भी प्रभावी ढंग से मिल जाएगा।

चारा आधा घंटे के लिए उपयोग के लिए उपयुक्त हैं। इस समय के बाद किसी भी बचे हुए उत्पाद को बच्चों को न पिलाये इसे मेल दे या डस्ट बिन में डाल दे।

निर्देशित से अधिक स्कूप का उपयोग न करें, क्योंकि केंद्रित फ़ीड से आपके शिशु को आवश्यक पानी नहीं मिलेगा। निर्देशानुसार कम स्कूप का उपयोग न करें, क्योंकि पतला फ़ीड आपके शिशुओं के लिए आवश्यक पर्याप्त पोषक तत्व प्रदान नहीं करेगा।

आपको ध्यान देना हैं कि बचे हुये फार्मूला मिल्क पाउडर को फ्रिज में न रखे। ऐसा करने से बच्चे के दूध में बैक्टीरिया के बढ़ने की आशंका होती हैं जो बीमारी का कारण बन सकता हैं।

ऐसा माना जाता हैं कि अलग-अलग फार्मूला मिल्क पाउडर में अलग-अलग मिश्रण निर्देश होते हैं यह महत्त्वपूर्ण हैं कि माता-पिता निर्देशों को ध्यान से पढ़ें और उनका पालन करें उनके बाद बच्चे का मिल्क पाउडर बनाये।

शिशु के दूध के विकल्प का उपयोग केवल स्वास्थ्य कार्यकर्ता, बाल रोग विशेषज्ञ या अपने फेमली हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह पर ही किया जाना चाहिए क्योंकि इसके उपयोग की आवश्यकता और इसके उपयोग की उचित विधि के अनुसार होना चाहिए। हेल्थ एक्सपर्ट जो भी सलाह दे उनको पालन करे।

स्वास्थ्य सम्बंधी कोई भी उत्पाद, विशेषज्ञ की सलाह के बिना उपयोग करना जोखिम भरा हो सकता हैं, इसलिए पहले किसी हेल्थ एक्सपर्ट से सलाह लें और फिर उत्पाद का उपयोग करें।

इन्हे भी पढ़े:- नैग्रो पाउडर के फायदे।

7.एप्टामिल पाउडर नुकसान और साइड इफेक्ट। aptamil stage 1 side effects in hindi.

चिकित्सा इतिहास में aptamil पाउडर के कोई दुष्प्रभाव नहीं बताए गए हैं। लेकिन इसके बावजूद, aptamil पाउडर का उपयोग करने से पहले, हमेशा अपने स्वास्थ्य विशेषज्ञ से मिलें और अपने बच्चों को aptamil पाउडर के बारे में खिलाने के बारे में चर्चा करें।

शिशुओं के लिए स्तनपान सर्वोत्तम है। Aptamil फार्मूला मिल्क पाउडर का उपयोग डॉक्टर, दाई, सार्वजनिक स्वास्थ्य नर्स, आहार विशेषज्ञ, फार्मासिस्ट, या मातृ एवं शिशु देखभाल के लिए जिम्मेदार अन्य पेशेवर की सलाह पर किया जाना चाहिए।

जब बोतल से दूध पिलाना आपके बच्चे के दांतों को लंबे समय तक या बार-बार दूध पिलाने की अनुमति नहीं देता है क्योंकि इससे दांतों के सड़ने का खतरा बढ़ जाता है। सलाह के लिए अपने स्वास्थ्य पेशेवर या दंत चिकित्सक से पूछें।

सुनिश्चित करें कि रात को आखिरी बार दूध पिलाने के बाद आपके बच्चे के दांत साफ हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञ जो भी सलाह दें उसका पालन करें।

स्वास्थ्य सम्बंधी कोई भी उत्पाद बिना हेल्थ एक्सपर्ट के सलाह मसवरा के उपयोग करने के लिए जोखिम से कम नहीं हो सकता हैं, इसलिए पहले किसी स्वास्थ्य विशेषज्ञ से सलाह लें और फिर उत्पाद का उपयोग करें।

इन्हे भी पढ़े:- पीडिया श्योर।

8.एप्टामिल पाउडर प्राइज़। aptamil online india in hindi.

आप्टामिल पाउडर की कीमत अन्य उत्पाद की तुलना में अधिक हो सकती है लेकिन उनके लाभ भी सर्वोत्तम हैं। आप्टामिल पाउडर के लाभ को देखते हुये प्राइज़ ज्यादा भी उनको अनदेखा करते हुये उत्पाद लिया जा सकता है।

आप इसे ऑनलाइन साइड या ऑफ लाइन खरीद सकते हैं। अगर आप प्राइस चेक करना या खरीदना चाहते हैं तो लिंक पर क्लिक करें।

9.एप्टामिल सुरक्षा दिशा निर्देश। aptamil safety guidelines in hindi.

एप्टामिल पाउडर खरीदते समय समाप्ति अवधि ज़रूर चेक कर लें। खोलने के बाद, सामग्री का उपयोग 2 से 3 सप्ताह या समाप्ति तिथि, जो भी पहले हो, के भीतर करें।

चूर्णयुक्त दूध जीवाणुरहित नहीं होता, इसलिए निर्देशों का पालन न करने से आपका शिशु बीमार हो सकता है। aptamil कंपनी के निर्देशों के अनुसार हाथ धोएँ और सभी बर्तनों को कीटाणुरहित करें।

भंडारण में लापरवाही से आप्टामिल पाउडर खराब हो सकता हैं। इसलिए स्टोरेज को ध्यान में रखे और शिशु को ताज खाना दें।

10.एप्टामिल सुरक्षा चेतावनी। aptamil security warning in hindi.

एक बार में केवल एक ही फ़ीड तैयार करें। तुरंत खिलाएँ और निर्देशों का ठीक से पालन करें। बचा हुआ आप्टामिल न रखें, बचा हुआ आप्टामिल फेंक दें। बच्चे को दूध पिलाते समय हमेशा पकड़ें। बच्चे को लावारिस छोड़ने से घुटन हो सकती हैं।

भोजन करते समय उनकी भुजाओं को स्वतंत्र रूप से चलने दें। बच्चा आसानी से दूध पीना शुरू कर देगा। शिशु के दूध के विकल्प का उपयोग स्वास्थ्य विशेषज्ञ की सलाह पर ही करना चाहिए क्योंकि इसके उपयोग की आवश्यकता और इसके उपयोग की उचित विधि स्वास्थ्य सलाहकार से ली जा सकती है। शिशु उत्पाद का उपयोग करते समय आपको सुरक्षा चेतावनियों का पालन करना चाहिए।

महत्त्वपूर्ण जानकारी:-“बच्चों के लिए माँ का दूध सर्वोत्तम हैं”।

11.FAQs: एप्टामिल। aptamil Question and Answer.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here